कानपुर में बनेंगे ब्लास्टप्रूफ वाहन, एनसीएफडी ने किया 280 करोड़ का निवेश

Smart News Team, Last updated: 11/08/2020 12:01 PM IST
  • कानपुर में जल्द ही बनेंगे ब्लास्टप्रूफ वाहन. जिसके लिए डिफेंस मैनुफैक्चरिंग कंपनी एनएसएफडी ने 280 करोड़ रुपए का निवेश किया है. इन वाहनों पर एके-47 की गोलियों और बारूद के धमाकों का असर नहीं होगा.
ब्लास्टप्रूफ वाहन

कानपुर में ब्लास्टप्रूफ वाहनों को बनाने के लिए डिफेंस मैनुफैक्चरिंग कंपनी एनएसएफडी ने 280 करोड़ रुपए का निवेश किया है. ऐसे में जल्द ही कानपुर में ब्लास्टप्रूफ वाहन जल्द बनने शुरू हो जायेंगे, जिसको एके-47 की गोलियों और बारूदी सुरंगों द्वारा भेदना मुश्किल होगा. वहीं वाहन का टायर पंचर होने के बाद भी मीलों दूर तक दौड़ाया जा सकेगा.

 

मिली जानकारी के अनुसार, इन वाहनों की मैनुफैक्चरिंग के लिए खास जर्मनी से मशीन मंगवाई गई है, जो कानपुर पहुंच चुकी है. इन मशीनों के द्वारा पानी की धार से लोहे या कांच की डेढ़ इंच मोटी चादर को काटा जा सकता है. इन वाहनों के प्रयोग में होने वाले कांच और लोहे को इसी मशीन के द्वारा काटा जाएगा.

एनसीएफडी के प्रबंध निदेशक मयंक श्रीवास्तव का कहना है कि इन वाहनों में बुलट प्रूफिंग के लिए खास किस्म की मेटल शीट का इस्तेमाल किया जायेगा. जिसे लगाते समय इंजन की फायर वाल की सुरक्षा सबसे बड़ी चुनौती होती है.

उन्होने बताया कि इन वाहनों के शीशों को मजबूत बनाने के लिए बैलिस्टिक कांच का इस्तेमाल किया जाएगा. जो 45 से 55 एमएम की होंगी. वहीं 360 डिग्री बुलेटप्रूफ सुरक्षा इसकी खासियत होगी. जो वाहनों को छह हिस्सों से सुरक्षा प्रदान करेगा.

बता दें कि इसके फ्लोर को ब्लास्टप्रूफ फ्लोर प्रोटेक्शन स्टील से लैस किया जाएगा. जिस पर ग्रेनेड के धमाकों का भी कोई असर नहीं होगा. इसके टायर को रन-फ़्लैट टायर टेक्नोलॉजी से लैस किया जाएगा. जिसकी खासियत यह होगी कि अगर हमलों के दौरान पंचर भी हो जाता है, तब भी 90 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से करीब 100 किलोमीटर की दूरी तक भगाया जा सकता है.मयंक श्रीवास्तव के मुताबिक, कानपुर-इलाहबाद हाईवे पर कंपनी स्थापित होंगी, जहां हर साल 40 से 50 ब्लास्टप्रूफ वाहन बनाए जाएंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें