माता-पिता के झगड़े से तंग आकर भाई-बहन ने घर छोड़ा, खोजबीन शुरू

Indrajeet kumar, Last updated: Tue, 21st Sep 2021, 3:06 PM IST
  • कानपुर के कल्याणपुर मकड़ीखेड़ा में मां-बाप के झगड़ों से तंग आकर भाई-बहन ने घर छोड़ दिया है. घर छोड़ने से पहले बच्चे एक चिट्ठी भी छोड़ गए है. जिसको देख के दोनों दंपति परेशान हैं.
प्रतीकात्मक फोटो (फाइल फोटो)

कानपुर. रविवार को कल्याणपुर मकड़ीखेड़ा में रहने वाले लालाराम के दो बच्चे मां-बाप के झगड़े से तंग आकर घर छोड़ निकल गए. इन बच्चों में 15 साल की बेटी प्रिया और 14 साल का बेटा नैतिक है. घर छोड़ने से पहले बच्चों ने एक घर में एक चिट्ठी भी छोड़ गए हैं. पत्र पढ़ने के बाद लालाराम और उनकी पत्नी काफी परेशान थे. जिसके बाद लालाराम और उनकी पत्नी समेत पड़ोस के लोग भी बच्चों को खोजने निकल पड़े. हालांकि अब तक बच्चों का पता नहीं चल पाया है.

लालाराम ने सारे रिश्तेदारी और दोस्तों के यहां बच्चों को तलाशा लेकिन कहीं कुछ पता ना लगने के बाद रात 20 बजे दोनों दंपति ने घटना की जानकारों पुलिस को दी. कल्याणपुर थाना प्रभारी वीर सिंह ने बताया कि बच्चों की तलाश में पुलिस की दो टीमें कर रही है. मिली जानकारी के मुताबिक लालाराम मूल रूप से कानपुर देहात के रसूलाबाद कहजरी के निवासी हैं जो कि कल्याणपुर मकड़ीखेड़ा में किराए के मकान में रहते थे. लालाराम गुजरात के एक कोल्ड स्टोरेज कंपनी में नौकरी करते थे. लेकिन कोरोना लॉकडाउन के बाद उनकी नौकरी छूट गई. जिसके बाद कमाई बैंड हो गई और दोनों दंपति के बीच घरेलू खर्चे को लेकर विवाद होने लगा.

महंत नरेंद्र गिरि को श्रद्धांजलि देने प्रयागराज पहुंचे सीएम योगी बोले, दोषी अवश्य सजा पाएगा

दिक्कतों को देखकर लालाराम बच्चों को गांव लेकर जाना चाहते थे. लेकिन दोनों बच्चे गांव जाने के लिए तैयार नहीं थे. इसी बात को लेकर दोनों दंपति के बीच आए दिनों विवाद होता था. रविवार को फिर पति-पत्नी के बीच झगड़ा हो गया. जिसके बाद दोनों बच्चों ने रोज रोज के झगड़ों से तंग आकर घर छोड़ निकल गए.

संत समाज का सवाल- हस्ताक्षर नहीं

कर पाते थे, सुसाइड नोट कैसे लिखे नरेंद्र गिरी?

 

जाने से पहले बच्चों ने घर में चिट्ठी छोड़ दी है. जिसमें ये लिखा गया है कि मां और पाप अब आप दोनों आजाद हैं. चिट्ठी में लिखी इन बातों को देख के सबलोग हैरान है. पूरे दिन दोनों दंपति और पड़ोस के लोगों ने भी बच्चों को तलाशते रहे लेकिन कुछ पता नहीं चल पाया. जिसके बाद दोनों दंपति ने इसकी सूचना थाने जाकर पुलिस को दी. बच्चों का कुछ पता नहीं लगने के बस मां सावित्री का रो रोकर बुरा हाल है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें