बर्ड फ्लू से कानपुर चिड़ियाघर में मुर्गों की मौत, 15 दिन के लिए बंद किया गया जू

Smart News Team, Last updated: Sun, 10th Jan 2021, 11:47 AM IST
  • कानपुर चिड़ियाघर में जंगली मुर्गों की मौत बर्ड फ्लू से हुई है। इसकी पुष्टि के बाद निदेशक ने चिड़ियाघर को 15 दिन बंद करने के आदेश दिए हैं। साथ ही डीएम ने चिड़ियाघर के दस किलोमीटर के दायरे में धारा 144 लागू कर दी है। अब अगर कोई व्यक्ति चिकन की दुकान खोलता है और छिपाकर मुर्गा, मुर्गी, पक्षी रखता है तो उसके विरुद्ध भी धारा 144 के उल्लंघन में धारा 188 के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा। इसके अलावा एक किलोमीटर के दायरे में पक्षियों को मारा जाएगा।
फाइल फोटो

कानपुर : चिड़ियाघर में बर्ड फ्लू से जंगली मुर्गों की मौत से यूपी में भी बर्ड फ्लू ने दस्तक दे दी है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटी एनीमल डिजीसेज भोपाल ने शनिवार को मुर्गों के मरने की वजह बर्ड फ्लू एच-5 बताया है। रात करीब नौ बजे रिपोर्ट मिलते ही चिड़ियाघर के अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए। रात में ही सभी बाड़े बंद करा दिए गए और देररात तक चली बैठक में चिड़ियाघर को 15 दिन तक बंद रखने का निर्णय ले लिया गया। तय किया गया है कि रविवार से चिडिय़ाघर में रखे गए पक्षियों और उसके एक किलोमीटर के दायरे में जो भी मुर्गा, मुर्गी के साथ ही सभी तरह के पक्षी पकड़कर मारे जाएंगे। उन्हें जलाया भी जाएगा। 10 किलोमीटर के दायरे में धारा 144 लागू कर दी गई है। अब अगर कोई भी व्यक्ति चिकन की दुकान खोलता है और छिपाकर मुर्गा, मुर्गी, पक्षी रखता है तो उसके विरुद्ध भी धारा 144 के उल्लंघन में धारा 188 के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा। सभी थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया है कि वे बाहर से मुर्गा, मुर्गी व पक्षी लेकर आने वालों को रोककर कार्रवाई करें। फ्लू से पीड़ित लोगों को एंटी वायरल दवाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। यह प्रदेश में बर्ड फ्लू का पहला मामला है। बर्ड फ्लू के बढ़ते खतरे को देखते हुए अब चिड़ियाघर प्रशासन पक्षीघर व पक्षी लोक में विभिन्न प्रजातियों की नौ सौ चिड़ियों की रेंडम सैंपलिंग कराएगा।

दो दिन में दस जंगली मुर्गों की मौत

चिड़ियाघर में दो दिन के अंदर 10 जंगली मुर्गों की मौत हो गई थी। इन मुर्गों में तीन की मौत गुरुवार को हुई है। इसके एक दिन पहले सात मुर्गे अपने बाड़े में मृत पाए गए थे। इनमें से दो मुर्गों का ‘क्वैकल स्वैब‘ ‘आंतरिक भाग का नमूना’ जांच के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटी एनीमल डिजीसेज भोपाल भेजा गया था। लक्षणों के आधार पर चिड़ियाघर के चिकित्सक मुर्गों की मौत की वजह ‘रानीखेत रोग’ बता रहे थे। भोपाल की प्रयोगशाला से जांच रिपोर्ट आने के बाद उनका अंदेशा गलत साबित हुआ। हालांकि निदेशक सुनील चैधरी ने प्रेस को दिए गए बयान में यह बात जरूर कही थी कि चिड़ियाघर में बर्ड फ्लू को लेकर भी एहतियात बरती जा रही है।

 चिड़ियाघर 15 दिन के लिए बंद किया गया

 मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. आरपी मिश्रा ने बताया कि मृत पाए गए दो मुर्गों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। चिड़ियाघर प्रशासन को बर्ड फ्लू के बारे में जारी गाइडलाइन का पालन करने के लिए कहा गया है। वहीं चिड़ियाघर के सहायक निदेशक अरविंद कुमार सिंह ने कहा कि फिलहाल चिड़ियाघर को 15 दिनों के लिए बंद किया गया है। सभी प्रजातियों की चिड़ियों की जांच की जाएगी। जब तक संतुष्टि नहीं होगी तब तक दर्शकों के लिए यह बंद रहेगा।

कानपुर: ट्रक की चपेट में आए बाइक सवार, एक युवक की मौत

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें