कानपुर में दोषी पुलिसकर्मियों को क्लीनचिट, डीज़ल के नाम पर वसूली का था आरोप

Smart News Team, Last updated: Fri, 9th Apr 2021, 2:42 PM IST
  • डीज़ल डलवाने के नाम पर दिव्यांग महिला से 12 हजार रुपए की वसूली करने वाले दोषी पुलिसकर्मियों को अब क्लीनचिट दे दी गई है. महिला की बेटी को ढूंढने के लिए गाड़ी में डीज़ल भरवाने के नाम पर 15 हजार रुपए की मांग की थी.
दिव्यांग महिला ने भीख मांगकर चुकाए पैसे

कानपुर: डीज़ल डलवाने के नाम पर दिव्यांग महिला से 12 हजार रुपए की वसूली करने वाले दोषी पुलिसकर्मियों को अब क्लीनचिट दे दी गई है. पुलिस ने दिव्यांग महिला की बेटी को ढूंढने के लिए गाड़ी में डीज़ल भरवाने के नाम पर 15 हजार रुपए की मांग की थी. महिला ने भीख मांगकर पुलिस को 12 हजार रुपए चुकाए थे, जिसके बाद चौकी इंचार्ज और विवेचना अधिकारी को सस्पेंड कर दिया गया था.

दिव्यांग महिला के डीआईजी से शिकायत करने के बाद सीओ सदर को जांच का जिम्मा सौंपा गया था. सीओ सदर की जांच के अनुसार दिव्यांग महिला ने 12 हजार रुपए दारोगा को नहीं बल्कि अपने बेटे को दिए थे. वहीं इस मामले में एसीपी आकाश कुलहरि का कहना है कि जांच रिपोर्ट की समीक्षा करने के बाद जरूरत पड़ी तो दोबारा जांच होगी.

कानपुर में लड़की से गैंगरेप, 3 लड़कों पर आरोप, दो की हुई गिरफ्तारी

आपको बता दें कि 9 जनवरी को दिव्यांग महिला ने थाने में अपनी बेटी के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. पुलिस ने महिला की बेटी को ढूंढने के लिए गाड़ी में डीज़ल भरवाने के लिए 15 हजार रुपए की डिमांड की. महिला ने किसी तरह भीख मांगकर 12 हजार रुपए इकट्ठा करके पुलिस को दे दिए. लेकिन कार्रवाई न होने पर महिला ने डीआईजी से गुहार लगाई.

कानपुर के ग्रीन पार्क में नामकरण योजना का प्रस्ताव अब तक नहीं हुआ तैयार

तत्कालीन डीआईजी डॉक्टर प्रीतिंदर सिंह ने दिव्यांग महिला की बेटी को ढूंढने के लिए पुलिसकर्मियों को अल्टीमेटम दिया था. चकेरी पुलिस ने 4 फरवरी को लड़की को नौबस्ता से एक युवक के घर से छुड़ाया था. आरोपी युवक को पॉक्सो और रेप की धाराओं में फिलहाल जेल भेजा गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें