CM योगी तक पहुंची कानपुर में अस्पतालों की मनमानी की शिकायत, कार्रवाई के आदेश

Smart News Team, Last updated: Mon, 26th Apr 2021, 12:47 AM IST
कानपुर के कोविड-19 अस्पतालों में ओवरबिलिंग और एंबुलेंस और शव वाहनों के ज्यादा पैसा वसूलने का पूरा मामला यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के पहुंचा. जिससे सीएम योगी ने कमिश्नर डॉ राजशेखर को हेल्पलाइन बनाकर ओवरचार्जिंग पर कार्रवाई शुरू करने का निर्देश दे दिया.
उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ. (फाइल फोटो)

कानपुर : कानपुर में कोविड अस्पताल और शव उठाने वाले एंबुलेंस के अवैध वसूली का मामला सामने आया है. यह पूरा मामला उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ तक भी पहुंच गया है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले पर रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कमिश्नर डॉ राजशेखर से संज्ञान लिया. कमिश्नर राजशेखर ने सीएम को बताया कि अस्पतालों में ओवरचार्जिंग को लेकर एक हेल्पलाइन बनाया गया है. उस हेल्पलाइन पर आने वाली शिकायतों की जांच कराकर अस्पताल के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. एंबुलेंस और शव वाहनों के ज्यादा पैसा वसूली के मामले पर कार्यवाही डीएम और नगर आयुक्त स्तर से हो रही है. जल्दी एक कमेटी बनाकर कार्रवाई की जाएगी.

बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी कोरोना का शिकार, बाहुबली MLA की रिपोर्ट पॉजिटिव

कमिश्नर राजशेखर ने बताया कि शनिवार को ही एक एंबुलेंस चालक के खिलाफ कार्रवाई किया जा चुका है और ओवरचार्जिंग के खिलाफ लगातार कार्रवाई जारी है. कानपुर में बेड की कमी को देखते हुए गुरुवार से 5 नए अस्पताल चालू कर दिए जाएंगे. ऑक्सीजन मिलते ही 7 और नए अस्पताल को कोविड में बदल दिया जाएगा. 29 अप्रैल से उर्सला का ऑक्सीजन प्लांट चालू हो जाएगा. 

सीएम ने कहा कि कानपुर के अस्पतालों में पैसा वसूली की शिकायत की जानकारी उनको पहले ही मिल चुकी थी. इसलिए सीएम ने 2 दिन पहले ही कमिश्नर से इस मामले की पूरी जानकारी ले लिया था. और कमिश्नर को कार्यवाही करने का आदेश दे दिया था. कमिश्नर द्वारा जारी किए गए और बिलिंग के हेल्पलाइन नंबर पर अब तक 7 लोगों की शिकायत आ चुकी है. जिन पर कार्रवाई की जा रही है.

दो बच्चों के साथ महिला पहुंची, SDM से चुनाव ड्यूटी से मुक्त करने की लगाई गुहार

जानें कब आयेगी दूसरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस, कितने मरीजों को मिलेगी राहत

बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी कोरोना का शिकार, बाहुबली MLA की रिपोर्ट पॉजिटिव

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें