शर्मनाक! दो दिन मां का शव कोविड अस्पताल में पड़ा रहा, बेशर्म बेटों को होश नहीं

Smart News Team, Last updated: 09/09/2020 03:00 PM IST
  • कानपुर के बर्रा में दो संवेदनहीन बेटों ने मां कोरोना संक्रमित मां को अस्पताल में भर्ती तो कराया लेकिन गलत जानकारी देकर गायब हो गए. महिला की मौत होने के बाद शव दो दिनों तक परिजनों की इंतजार में अस्पताल में ही पड़ा रहा.
कानपुर में कोरोना संक्रमित महिला को अस्पताल में भर्ती करा बेटे हुए गायब.

कानपुर. कानपुर के बर्रा से एक बड़ा शर्मनाक मामला सामने आया है जिसमें एक महिला के बेटों ने अपनी मां को लावारिस छोड़ दिया. मां कोरोना वायरस की चपेट में आई तो बेटों ने उसे भूला ही दिया. अस्पताल में भर्ती करा कर ना कभी सुध ली और ना ही उसकी मौत पर आए. सिर्फ इतनी ही बेशर्मी नहीं बल्कि मां को अस्पताल में भर्ती कराते समय मोबाइल नंबर और पता भी गलत लिखवाया. महिला की कोरोना ने अगले ही दिन जान ले ली तो शव को भी अंतिम संस्कार के लिए दो दिन इंतजार करना पड़ा.

कानपुर की 56 वर्षीय महिला को परिवार के लोगों ने 5 सितंबर को हैलट में भर्ती कराया जहां अस्पताल के बीएचटी पर नाम, थाना और मोहल्ला तो सही दर्ज कराया लेकिन घर का पता और मोबाइल नंबर गलत दर्ज करा कर चले गए. 

6 सितंबर को महिला की मौत हो गई तो परिवार को सूचना देने के लिए फोन किया गया तो नंबर गलत बताया गया. हैलट ने जानकारी पुलिस को दी तो बर्रा की पुलिस ने सक्रियता से मोहल्ले आदि में खोज की लेकिन वह भी खाली हाथ लौट आए. 

कानपुर: मकान मालिक ने डरा-धमका कर 10 साल की बच्ची का किया रेप, गिरफ्तार

8 सितंबर तक बात मोहल्ले में फैल गई कि पुलिस कुछ लोगों की तलाश कर रही है शायद किसी अस्पताल का मामला है तब जाकर परिवार को होश आया कि उनकी एक मां भी है. तब उन्होनें अस्पताल में फोन करके पूछा तो मां की मौत की खबर मिली. इसके बाद हैलेट गए तब जाकर महिला के शव का अंतिम संस्कार किया जा सका. 

कानपुर: अब कोरोना के मरीजों को देने होंगे दो फोन नंबर और एड्रेस प्रूफ

संवेदनहीनता की तब हद हुई जब पुलिस ने एक बेटे से पूछा कि दूसरा कहां है तो जवाब आया कि वह नौकरी के लिए दूसरे शहर चला गया है. पुलिस ने गलत जानकारी देने के जुर्म में एफआईआर दर्ज कर ली है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें