कानपुर: हैलट के कोविड हॉस्पिटल में अब लक्षण वाले सभी कोरोना मरीज होंगे भर्ती

Smart News Team, Last updated: 12/10/2020 09:03 AM IST
  • कानपुर के हैलट के कोविड हॉस्पिटल में अब लक्षण वाले सभी कोरोना मरीजों को भर्ती किया जाएगा. अस्पताल प्रशासन ने शहर में कोविड के मामले कम होने के बाद यह फैसला लिया है.
कानपुर: हैलट के कोविड हॉस्पिटल में अब लक्षण वाले सभी कोरोना मरीज होंगे भर्ती.

कानपुर. कानपुर शहर में कोरोना को लेकर एक राहत की खबर आई है. शहर में कोविड के मामले कम होते ही हैलट अस्पताल परिसर में कोविड हॉस्पिटलों में भी कोरोना के मरीज कम आने लगे है. जिससे अस्पताल में भीड़ कम होने लगी है. अब लक्षण वाले सभी कोरोना मरीजों को भर्ती किया जाएगा. रविवार को हैलट अस्पताल में 12 कोविड मरीजों के डिस्चार्ज होने के बाद 11 भर्ती हुए हैं. मैटरनिटी कोविड हॉस्पिटल में फिलहाल 7 मरीजों का इलाज चल रहा है. 

अभी तक हैलट के दोनों कोविड हॉस्पिटलों में कोरोना के मामलों से बेड भरे रहते थे. अब अस्पताल प्रशासन ने फैसला लिया है कि रविवार से लक्षण वाले हर मरीजों को कोविड अस्पताल में भर्ती करेंगे. बता दें कि अभी तक कोविड के गंभीर मरीजों का इलाज लेवल-3 के अस्पतालों  में होता था. हैलट के न्यूरो कोविड हॉस्पिटल में 70 मरीजों का कोविड वार्ड में इलाज चल रहा है. जबकि, मैटरनिटी कोविड वार्ड लगभग खाली हो गया है. इसी को देखते हुए मेडिकल प्रशासन ने मैटरनिटी वार्ड में तैनात आधे डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टॉफों को न्यूरो कोविड वार्ड में शिफ्ट कर दिया है. 

कानपुर: पुरानी रंजिश में हिस्ट्रीशीटर के भाई-बेटों ने युवक को बेरहमी से मार डाला

इसके अलावा डॉक्टरों को कोविड के गंभीर मरीजों के इलाज के लिए और सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं. मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो.आरबी कमल का कहना है कि कोविड वार्ड में रविवार को 11 मरीजों की भर्ती की गई, लेकिन अब मरीजों का लोड कम होने लगा है. मरीजों का लोड कम होने से गंभीर कोविड मरीजों का और अधिक ध्यान रखा गया जाएगा.

कानपुर: बाजार में लगी भीषण आग, 9 दुकानें खाक, डेढ़ घंटे में दमकल ने पाया काबू

 उन्होंने बताया कि ओपीडी को पहले चरण में शुरू किया जा रहा है. टोकन सिस्टम के जरिए ओपीडी ब्लाक में मरीजों के प्रवेश की व्यवस्था की गई. मेन गेट से मरीज जाएंगे और पीछे ब्लड बैंक से मरीज ओपीडी ब्लाक से बाहर निकल सकेंगे. इससे कोरोना संक्रमण का खतरा भी नहीं होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें