जमीन का लैंडयूज बदलवाने के लिए घूसखोरी, 'मैडम' के नाम पर 25 हजार रुपए प्रति बीघा का रेट, जानें मामला

Smart News Team, Last updated: 14/02/2021 03:29 PM IST
  • कानपुर के नर्वल तहसील क्षेत्र में भूमि उपयोग परिवर्तन कराने के लिए 'मैडम' के नाम पर घूसखोरी का ऑडियो और वीडियो सामने आया है. ऑडियो में मैडम के नाम पर रिश्वत देने की बात सामने आ रही है. पुलिस मामले की जांच में जुट गई है.
भूमि उपयोग परिवर्तन कराने के लिए 'मैडम' के नाम पर घूसखोरी. ( सांकेतिक फोटो )

कानपुर: नर्वल तहसील में जमीन का लैंडयूज बदलवाने में घूसखोरी का भंडाफोड़ हुआ है. इस रिश्वतकांड के तीन ऑडियो और एक वीडियो शुक्रवार शाम से वायरल रही हैं. ऑडियो में 'मैडम' के नाम पर 25 हजार रुपए प्रति बीघा की दर से दो बीघा जमीन का लैंडयूज बदलवाने का सौदा तय हुआ है. इस संवाद में अधिकारी और प्रभावशाली लोगों के नाम भी आए हैं. 'मैडम' और उनके नाम पर रिश्वत लेने वाला कौन है. प्राथमिक जांच के बाद कानून-गो के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने का आदेश दिया गया है.

सूत्रों के अनुसार, मामला नर्वल तहसील के नगवा गांव का बताया जा रहा है. यहा के आराजी संख्या 812 की 0.9940 हेक्टेयर जमीन गांव के प्रेमलाल, उनके बेटे विशाल, नीरज तथा पत्नी सियादुलारी के नाम दर्ज है. जानकारी के अनुसार, जमीन का आधा हिस्सा पहले से ही अकृषि भूमि के रूप में प्रयोग हो रही है. बाकी बची आधी जमीन का भू उपयोग अकृषि भूमि के रूप में बदलने के लिए इस परिवार ने आवेदन किया था.

कानपुर में 'मैडम' के नाम पर घूसखोरी, रिश्वत लेने का वीडियो वायरल, केस दर्ज

आवेदन में परिवार ने सर्किल रेट का एक फीसदी 33 हजार रुपए का चालान जमा किया और इतने का ही स्टांप दाखिल किया. जानकारी के अनुसार एसडीएम ने 10 फरवरी को इसे अकृषि घोषित करने का आदेश जारी किया. ऑडियो-वीडियो इसी आदेश से संबंधित बताये जा रहे हैं. हिन्दुस्तान इस ऑडियो-वीडियो की पुष्टि नहीं करता है.

कानपुर: मैडम के नाम पर काली कमाई करने के मामले में कानूनगो सस्पेंड, केस भी दर्ज

आलोक तिवारी, डीएम, कानपुर नगर, ने रिश्वतखोरी के ऑडियो-वीडियो की प्राथमिक जांच के बाद कानून-गो के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने का आदेश सीडीओ को दिया है. संदेह के दायरे में आए तहसीलदार और एसडीएम की भूमिका की जांच के लिए एडीएम सिविल सप्लाई को नामित किया गया है. दो दिन में रिपोर्ट मांगी गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें