बच्चों में बड़ों से ज्यादा प्रभावी कोवैक्सीन, 90 दिन में आए एंटीबॉडी के बेहतर रिजल्ट

Shubham Bajpai, Last updated: Thu, 14th Oct 2021, 3:35 PM IST
  • कानपुर में बच्चों पर चल रहे वैक्सीन ट्रायल में उत्याहित करने वाले परिणाम सामने आए हैं, ट्रायल में जिन बच्चों को वैक्सीन लगी है उनमें 90 दिन में एंटीबॉडी बन गई है. बच्चों में कोरोना की कोवैक्सीन बड़ों से ज्यादा प्रभावी पाई गई. इस ट्रायल में 1180 वॉलंटियर्स पर ट्रायल हुआ था.
बच्चों में बड़ों से ज्यादा प्रभावी कोवैक्सीन, 90 दिन में आए एंटीबॉडी के रिजल्ट (फोटो सभार एएफपी)

कानपुर. बच्चों में कोरोना की वैक्सीन के वैक्सीनेशन को लेकर काफी समय से कानपुर में ट्रायल चल रहा है. जिसको लेकर अब रिपोर्ट सामने आई है. रिपोर्ट में काफी चौंकाने वाले आंकड़े आए हैं. जिसके अनुसार, कोरोना की कोवैक्सीन बच्चों में बड़ों से काफी ज्यादा प्रभावी है और साथ ही रिसर्च में यह बात भी सामने आई है कि बच्चों में 90 दिन में एंटीबॉडी डेवलप हो गई.

बता दें कि कानपुर में आईसीएमआर की अनुमति के बाद जून से भारत बायोटेक प्रखर अस्पताल में बच्चों पर कोवैक्सीन का ट्रायल कर रहा है. इस ट्रायल में 12 से 18 साल एज ग्रुप के 20, 6 से 12 साल एज ग्रुप के 20, और 2 से 6 साल एज ग्रुप के 15 बच्चों को शामिल किया गया है.

पत्नी और ससुरालवालों से परेशान पति ने की फर्जी आत्महत्या, वीडियो वायरल, गिरफ्तार

एंटीबॉडी टाइटर टेस्ट में 90 वें दिन आए बेहतर रिजल्ट

ट्रायल टीम के चीफ गाइड और पूर्व डीजीएमई डॉ. वीएन त्रिपाठी ने बताया कि बच्चों में 28 दिन पूरे होने के बाद वैक्सीन की दूसरी डोज लगाई गई. जिसके बाद बच्चों के 0, 28, 56 और 90 दिन के बाद एंटीबॉडी टाइटर टेस्ट किए गए, जिसमें 90 वें दिन परिणाम काफी बेहतर सामने आए. अब 180 और 280 दिन बाद फिर से बच्चों के एंटीबॉडी टाइटर टेस्ट किए जाएंगे. उसके परिणाम के बाद बच्चों में वैक्सीनेशन को लेकर रिपोर्ट तैयार होगी.

बच्चों में इंजेक्शन वाली जगह सूजन और दर्द की आई शिकायत

डॉ. वीएन त्रिपाठी ने बताया कि जिन बच्चों को कोवैक्सीन लगाई गई, उन बच्चों में कुछ में केवल इंजेक्शन वाली जगह सूजन और हल्के दर्द की शिकायत की थी. बच्चों को वैक्सीन की 0.5 एमएल दो डोज लगाई गई. यह बड़ों के मुकाबले बच्चों में ज्यादा तेजी और अधिक मात्रा में एंटीबॉडी बनाने में कारगर साबित हो रही है.

कानपुर: कंपनी को टेंडर दिए बिना ही ग्रीन पार्क स्टेडियम में हुआ लिफ्ट का भूमि पूजन

2 से 5 साल के बच्चों की जांघ में लगाई वैक्सीन, शामिल हुए 1180 वॉलंटियर्स

डॉ. वीएन त्रिपाठी ने बताया कि 2 से 5 साल एज ग्रुप के बच्चों की जांघ पर कोवैक्सीन की डोज लगाई गईं. साथ ही कानपुर में अब तक 1180 वॉलंटियर्स पर कोवैक्सीन का ट्रायल किया जा चुका है. वहीं, उन्होंने बताया कि आने वाले समय में अनुमति मिलने के बाद भी 2 से 5 साल एज ग्रुप के बच्चों की जांघ में ही वैक्सीन लगाने की अनुमति दी जाएगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें