बेटा बना डायरेक्टर, अपने माता-पिता पर बना डाली फिल्म स्कूटर, आज होगी रिलीज

Swati Gautam, Last updated: Thu, 25th Nov 2021, 9:50 AM IST
  • कानपुर के लड़के मंजिल श्रीवास्तव ने अपने माता पिता के ऊपर ही एक पूरी फिल्म बना डाली. डायरेक्टर बेटे ने फिल्म का नाम स्कूटर रखा है. यह फिल्म 25 नवंबर यानी आज रिलीज भी होगी.
बेटा बना डायरेक्टर, अपने माता-पिता पर बना डाली फिल्म स्कूटर, आज होगी रिलीज. file photo

कानपुर. हौसलों को उड़ान बुलंद हो तो दुनिया की कोई ताकत हमे अपने सपनों से दूर नहीं कर सकती. इसका एक उदाहरण कानपुर शहर के साकेत नगर ने देखा जा सकता है जहां जब एक लड़के को बॉलीवुड इंडस्ट्री में किसी बढ़ी फिल्म को खुद ड्यूटेक्ट करने का मौका नहीं मिला तो उसने अपने माता पिता के ऊपर ही एक पूरी फिल्म बना डाली. डायरेक्टर बेटे ने फिल्म का नाम स्कूटर रखा है. यह फिल्म 25 नवंबर यानी आज रिलीज भी होगी. माता पिता ने अपने बेटे के सपनों को अपनी आंखों में सजाकर उसे आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया तो बेटे ने माता पिता को ही हीरो हीरोइन बना डाला.

फिल्म स्कूटर में साकेत नगर निवासी माता सुमिता श्रीवास्तव और पिता मुकेश श्रीवास्तव का पूरा जीवन दर्शाया गया है. जबकि डायरेक्टर बेटे का नाम मंजिल श्रीवास्तव है. मंजिल ने बताया कि शहर के एक संस्थान से मास कम्यूनिकेशन करने के बाद करीब 3 साल पहले बड़ी उम्मीदों के साथ डॉयरेक्टर बनने के लिए मुंबई गए थे. वहां उन्होंने इसी परेशानियों का सामना किया जिसके बाद माता पिता ने उन्हें वापस कानपुर आ जाने की बात कही. लेकिन मंजिल ने हार नहीं मानी और डटकर काम किया.

गजब ! बिजली विभाग ने दिया कनेक्शन, प्लॉट पर दीवार नहीं मिली तो पेड़ पर टांग दिया मीटर

करीब 6 महीने बाद मंजिल को अपनी मंजिल मिली और रॉकस्टार फिल्म के लेखक के साथ नवाजुद्दीन सिद्दीकी के प्रोजेक्ट पर काम करने का मौका मिला. फिर काम में रफ्तार बढ़ती गई और मेरे साईं, विक्रम बैताल, अचानक उस रोज, वेब सीरीज पौरुषपुर समेत कई प्रोजेक्ट पर क्रिएटिव डॉयरेक्टर के तौर पर भी मंजिल ने काम किया. इस बार मंजिल ने ही अपने माता-पिता को डेडिकेट करते उनकी ही कहानी पर आधारित फिल्म स्कूटर बनाई. जिसके लेखक और डॉयरेक्टर खुद मंजिल श्रीवास्तव हैं. बताया कि ये कॉमेडी के साथ- साथ पारिवारिक फिल्म है. इसे देखकर हर किसी को अपनी कहानी लगेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें