गंगा लिंक एक्सप्रेस-वे की डीपीआर जल्द आएगी : मंडालयुक्त

Smart News Team, Last updated: Sat, 9th Jan 2021, 3:46 PM IST
  • शहर को जाम से मुक्ति दिलवाने के लिए आउटर रिंग रोड और 28 किलोमीटर लंबा गंगा लिंक एक्सप्रेस-वे बनाया जाना प्रस्तावित है। गंगा लिंक एक्सप्रेस-वे 2018 से लंबित है। अब इसको मूर्त रूप देने के लिए कमिश्नर राजशेखर ने कवायद शुरू की है।
फाइल फोटो

कानपुर : शहर के जाम को समाप्त करने के लिए मुंबई के वर्ली सी लिंक की तर्ज पर ही कानपुर में गंगा लिंक एक्सप्रेस-वे की स्थापना की जानी है। परियोजना को मूर्त रूप देने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। शिविर कार्यालय में शुक्रवार को आयोजित उच्च स्तरीय समग्र विकास समिति की बैठक में मंडलायुक्त डॉ. राजशेखर ने प्रोजेक्ट की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि तीन दिनों के अंदर केडीए, नगर निगम, सिंचाई विभाग, केस्को व लोक निर्माण विभाग इस प्रोजेक्ट पर अपना सुझाव देंगे और फिर उप्र राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) इसकी डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कराएगा।

ट्रांसपोर्टरों को वाणिज्य विभाग से मिली राहत, अब नहीं लगवानी पड़ेगी आरएफआइडी

इसके लिए समय से समन्वयक और संबंधित विभागों के अफसर पूर्व में बनाए गए अलाइनमेंट का मौके पर जाकर परीक्षण कर लें ताकि पता चल सके कि कहीं कोई बदलाव करने की आवश्यकता तो नहीं है। शहर से होकर पांच राष्ट्रीय राजमार्ग गुजरते हैं। इस वजह से यहां जाम लगता है। इस समस्या के समाधान के लिए आउटर रिंग रोड की स्थापना की जा रही है। जबकि शहर के अंदर के जाम को मुक्ति दिलाने के लिए गंगा-लिंक एक्सप्रेस-वे बनाया जाना प्रस्तावित है। इसकी योजना 2018 में बनी थी और 20 जून 2018 को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में लखनऊ में हुई बैठक में इसके निर्माण पर सैद्धांतिक सहमति बन गई थी, लेकिन इसके बाद यह फाइल अलमारी में कैद हो गई। मंडलायुक्त ने अब इसे मूर्त रूप देने की कवायद शुरू की है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें