फर्जी जमानतगीर गिरोह का भंडाफोड़, पुलिस ने 11 आरोपियों को किया गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Fri, 13th Nov 2020, 4:41 PM IST
  • अपराधियों को छुड़ाने के लिए कानपुर में फर्जी जमानतगीर गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड़ कर दिया है और पुलिस ने 11 लोगों को गिरफ्तार किया है साथ ही इनके साथ शामिल अन्य लोगों की भी जानकारी पुलिस एकत्र कर रही है.
कानपुर में आरोपियों की फर्जी जमानत लेने वाले गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस के हाथ बड़ी सफलता लगी है. कई आपराधिक मामलों में आरोपियों की फर्जी जमानत लेने वाले गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है और 11 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. जिनमें से 6 आरोपियों पर कानपुर के कई थानों में हत्या,रंगदारी सहित तमाम केस दर्ज हैं तो वही अन्य पांच फर्जी जमानत लेने वाले आरोपियों को गिरफ्तार किए गए हैं. मिली जानकारी के अनुसार फर्जी जमानतगीर के गिरोह के नेटवर्क तोड़ने के लिए पुलिस टीम का गठन किया और इस टीम को फर्जी जमानतगीर की धरपकड़ में लगाया गया.

जिसके बाद इस टीम में फर्जी जमानतगीर के खिलाफ साक्ष्य एकत्र करते हुए फर्जी जमानतगीर की गिरफ्तारी के लिए योजना बनाई और तफ्तीश में जमानतगीरों के नाम सामने आते ही पुलिस टीम ने पांच आरोपियों को दबोच लिया. इसके साथ ही छह आपराधिक गतिविधियों में लिप्त हत्या,रंगदारी सहित गैंगस्टर के आरोप में जेल जा चुके छह अभियुक्तों को भी गिरफ्तार कर लिया गया. इस तरह से फर्जी जमानतगीर गिरोह में शामिल कुल 11 आरोपियों को गिरफ्तार करने में पुलिस को कामयाबी मिली.

पटाखों पर प्रतिबंध, बेचने और जलाने पर रोक उल्लंघन किया तो होगी एफआईआर

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए अपराधियों में नवाब अख्तर उर्फ मन्नू,राम बाबू,मुन्ना सद्दाम,सलमान, सहजाद व इरफान हैं. जबकि जमानतगीर राजेश कुमार, नत्थू, संतोष, ब्रजकिशोर व अरविंद उर्फ झिंनी हैं. खास बात यह कि सभी जमानतगीर बिठूर थाना क्षेत्र के निवासी है. मामले को लेकर एसपी पश्चिम ने बताया कि इसमें कई विभागीय कर्मचारियों की मिलीभगत होने की संभावनाएं से इनकार नहीं किया जा सकता है.पकड़े गए सभी अपराधियो के ऊपर हत्या, लूट समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमे दर्ज है साथ ही इस फर्ज़ी जमानत में और कई अपराधियो के भी नाम सामने आए हैं.

 उन सब की तलाश की आ रही है.पुलिस के मुताबिक, फर्जी जमानत के लगभग 73 मामले सामने आए थे.जबकि जांच में 30 से 40 केस और उजागर हुए हैं.जिनकी पड़ताल के लिए माननीय न्यायालय से साक्ष्य संकलन किए जा रहे हैं. जांच में जैसे जैसे साक्ष्यों का पता चलेगा वैसे वैसे आरोपियों की गिरफ्तारी व मुकदमे में षणयंत्र के आधार पर धाराएं बढ़ाते हुए कार्यवाही की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें