किसान आंदोलन के समर्थन में उड़ीसा से दिल्ली जा रहे किसानों को कानपुर में रोका

Smart News Team, Last updated: Thu, 21st Jan 2021, 12:53 PM IST
  • संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य व राष्ट्रीय संयोजक नवनिर्माण किसान संगठन के राष्ट्रीय संयोजक अक्षय कुमार के मुताबिक यूपी की सीमा में घुसते ही हमें रोक दिया गया है। पुलिस और प्रशासन हमारे साथ दुर्व्यवहार कर रही है। हमारे पांच सौ साथियों को कानपुर के महाराजपुर इलाके में रूमा के एक स्कूल में नजरबंद किया गया है।
रूमा स्थित आचार्य रघुवीर इंटर कॉलेज में बसों को खड़ा करवाकर किसानों के रुकने की व्यवस्था प्रशासन ने करवाई है।

कानपुर : किसान आंदोलन में शामिल होने भुवनेश्वर से दिल्ली जा रहे किसानों को पुलिस ने शहर की सीमा पर रोक दिया। लगभग पांच सौ किसान बसों से प्रयागराज होते हुए फतेहपुर सीमा से जिले में प्रवेश कर रहे थे। किसानों ने आरोप लगाया कि यूपी में प्रवेश करते ही नजरबंद करके प्रशासन दुर्व्यवाहर कर रहा है।

कानपुर में एक करोड़ के जाली स्टांप की सूचना पर इंटेलीजेंस सक्रिय

दिल्ली में आंदोलनरत संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य व राष्ट्रीय संयोजक नवनिर्माण किसान संगठन उड़ीसा के राष्ट्रीय संयोजक अक्षय कुमार के नेतृत्व में आधा दर्जन बसों से लगभग 500 किसान 15 जनवरी को भुवनेश्वर से दिल्ली के लिए रवाना हुए थे। पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार होते हुए किसानों ने बुधवार की दोपहर यूपी के चंदौली बॉर्डर पर प्रवेश किया। संगठन के उत्तर प्रदेश प्रभारी हिमांशु तिवारी ने बताया कि हम लोगों को यूपी में प्रवेश करते ही परेशान किया जाने लगा।

कानपुर देहात में पशु व्यापारी को हंसिया मारकर पांच लाख रुपये लूटे

रूमा स्थित आचार्य रघुवीर इंटर कॉलेज में बसों को खड़ा करवाकर किसानों के रुकने की व्यवस्था प्रशासन ने करवाई है। हिमांशु तिवारी ने बताया कि गुरुवार दोपहर तक रूमा में ही प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक प्रस्तावित है। दोपहर में रामादेवी स्थित चौधरी चरण सिंह प्रतिमा पर माल्यार्पण का कार्यक्रम और उसके बाद गुमटी गुरुद्वारे में किसानों का स्वागत कार्यक्रम तय है। इसके बाद ही आगे के लिए निकलेंगे। किसान दिल्ली चलो यात्रा के प्रमुख अक्षय कुमार ने बताया कि सरकार से मांग है कि तीनों काले कानून रद्द करे। एमएसपी की गारंटी सरकार दे और किसान हित में कानून बनाए। यात्रा में लगभग तीस महिलाएं भी शामिल हैं।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें