आईआईटी कानपुर के पूर्व निदेशक प्रो. इंद्रनील मन्ना बने आइएनएई के प्रेसीडेंट

Smart News Team, Last updated: Mon, 4th Jan 2021, 2:57 PM IST
  • प्रो. इंद्रनील मन्ना इस समय बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआइटी) डीम्ड यूनिवर्सिटी मेसरा रांची के कुलपति हैं। उन्हें आईआईटी खडगपुर से पांच साल की प्रतिनियुक्ति पर कुलपति बनाया गया था। आईएनई के अध्यक्ष बनने के बाद अब वो देश की तकनीकी प्रगति में योगदान देंगे
प्रोफेसर इंद्रनील मन्ना

कानपुर : आईआईटी कानपुर के पूर्व निदेशक प्रो. इंद्रनील मन्ना को इंडियन नेशनल अकैडमी ऑफ इंजीनियरिंग (आईएनएई) का अध्यक्ष चुना गया है। यह देश का एकमात्र राष्ट्रीय इंजीनियरिंग एवं अनुसंधान संस्थान है, जबकि देश में विज्ञान की तीन अकैडमी हैं। प्रो. मन्ना इन दिनों बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआइटी) डीम्ड यूनिवर्सिटी मेसरा रांची के कुलपति हैं।

आईआईटी में अपने कार्यकाल के दौरान उनका जोर नियुक्तियों व शोध कार्य पर रहा। पांच वर्ष तक उन्होंने इस संस्थान के निदेशक पद पर सेवाएं दीं।  करीब 150 असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर व प्रोफेसर की नियुक्ति उनके कार्यकाल में हुई। उस वक्त फैकल्टी की संख्या 400 के करीब पहुंच गई थी।

महाकवि गोपालदास नीरज की 96वीं जयंती आज, राजधानी में बनेगा नीरज चौक

आईआईटी खडगपुर से पांच वर्ष की प्रतिनियुक्ति पर वह बीआइटी के कुलपति नियुक्त किए गए हैं। अगस्त से वह यहां पर सेवाएं दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि आईएनएई का काम नई तकनीक व इंजीनियरिंग के बारे में बताना व उसके लाभ से सरकार को अवगत कराना है। देश की बड़ी-बड़ी तकनीकी पॉलिसी के लिए यहां योजनाएं बनाई जाती है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें