कानपुर मेडिकल कॉलेज में खुलेगा शॉपिंग मॉल, एक छत के नीचे मिलेंगी ये सुविधाएं

Shubham Bajpai, Last updated: Sat, 16th Oct 2021, 10:06 AM IST
  • कानपुर के जीएसवीएम मेडिकल कालेज में जल्द ही मिनी शॉपिंग मॉल बनने जा रहा है. इस मॉल में सभी ब्रांड की दुकानें होंगी. साथ ही इस मॉल में ही बैंक और पोस्ट ऑफिस भी होंगे ताकि सीनियर-जूनियर रेजीडेंट के साथ मेडिकल स्टूडेंट्स को एक छत के नीचे सभी सुविधाएं मिल सकें.
कानपुर मेडिकल कॉलेज में खुलेगा शॉपिंग मॉल, एक छत के नीचे मिलेंगी ये सुविधाएं

कानपुर. गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज में काफी समय से जर्जर पड़े कापरेटिव भवन को जल्द ध्वस्त कर दिया जाएगा. इसके स्थान पर 7 करोड़ की लागत से मिनी शॉपिंग मॉल बनाने की तैयारी की जा रही है. इस मॉल में हर ब्रांड की दुकानें होंगी. साथ ही मॉल में अन्य कई सुविधाओं को भी शुरू किया जाएगा ताकि डॉक्टर्स समेत स्टूडेंट्स को सभी सुविधाएं आसानी से मिल जाएं. मॉल में खाने-पीने की भी दुकानें शुरू की जाएगी, जिसमें डॉक्टर्स और मेडिकल स्टूडेंट्स साथ बैठकर लंच और चाय नाश्ता कर सकेंगे.

पूर्व प्रिसिंपल ने तैयार किया था प्रस्ताव

शॉपिंग मॉल का प्रस्ताव मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल डॉ. आरबी कमल ने तैयार करने के निर्देश दिए थे. डॉ. आरबी कमल ने जर्ज कापरेटिव परिसर का निरीक्षण कर इसे ध्वस्त कर मॉल बनाने को लेकर जूनियर इंजीनियर अरविंद कुमार को निर्देश दिए थे. जिसका प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा गया था. जिसे सैद्धांतिक अनुमति मिल चुकी है,

हैलट अस्पताल के शौचालय में प्रसव के बाद मदद को चिल्लाती रही महिला, कमोड में फंसे नवजात की मौत

सात करोड़ में तैयार होगा मॉल

मेडिकल कॉलेज में मिनी शॉपिंग मॉल का प्रस्ताव उत्तर पदेश कारपोरेशन लिमिटेड के द्वारा तैयार किया गया है. इसके लिए 7 करोड़ रुपये खर्च होने के कयास लगाए जा रहे हैं. इसके प्रस्ताव को शासन से मंजूरी मिल गई है. अब जल्द ही बजट पास होने की उम्मीद है.

यह होगी मॉल की रूपरेखा

मेडिकल कॉलेज में तैयार हो रहे इस मॉल में 17 दुकानें होंगी. जिसमें सभी ब्रांड की दुकान खुलेंगी. 1 कैफेटेरिया और 1 लॉन भी तैयार किया जा रहा है. साथ ही मॉल में बैंक और पोस्ट ऑफिस भी शिक्ट किया जाएगा. अभी तक दोनों कॉलेज की अलग-अलग बिल्डिंगों में संचालित हो रहे हैं

कानपुर: पनकी पुलिस ने ट्रक में भरकर स्लाटर हाउस ले जा रहे 21 मवेशियों को किया बरामद

बता दें कि कॉलेज की स्थापना के समय कापरेटिव परिसर बनाया गया था, जहां, चाय-नाश्ते की दुकान के साथ सरकारी गल्ले की दुकान, नाई एवं किराना की दुकानें हैं. रखरखाव न होने की वजह से यह जर्जर हो गया है. जिसको अब ध्वस्त करने की तैयारी की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें