हैलट अस्पताल के शौचालय में प्रसव के बाद मदद को चिल्लाती रही महिला, कमोड में फंसे नवजात की मौत

Uttam Kumar, Last updated: Fri, 15th Oct 2021, 11:23 AM IST
जिले के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल हैलट में डॉक्टर और नर्स नहीं होने के कारण एक नवजात बच्चा की जान चली गई. महिला का शौचालय में प्रसव हो जाने के कारण बच्चा कमोड में गिर कर फंस गया. महिला इस दौरान मदद के लिए चिल्लाती रही लेकिन काफी देर तक कोई स्टाफ मदद के लिए नहीं पहुंच सका. जिसके कारण नवजात की मौत हो गई. 
हैलट अस्पताल में डॉक्टर और नर्स नहीं होने के कारण नवजात बच्चा की जान कमोड में फंस जाने के करन हो गई. फाइल फोटो

कानपुर. जिले के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल हैलट में एक बार फिर बड़ी लापरवाही सामने आया है. इस बार  अस्पताल में डॉक्टर और नर्स नहीं होने के कारण एक नवजात बच्चा की जान चली गई. महिला का शौचालय में प्रसव हो जाने के कारण बच्चा कमोड में गिर गया और उसी में फंसा गया. महिला इस दौरान मदद के लिए चिल्लाती रही लेकिन काफी देर तक कोई स्टाफ मदद के लिए नहीं पहुंच सका. जिसके कारण नवजात की मौत हो गई. घटना की जानकारी मिलते ही अस्पताल में हड़कंप मच गया. वहीं इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर ने कहा कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है. मामला सामने आने पर जिलाधिकारी विशाल जी अय्यर ने भी कड़ा रुख अपनाया और मुख्य चिकित्सा अधिकारी से मामले में रिपोर्ट तलब की. 

दरअसल हसीन बानो नामक महिला प्रसव के लिए हैलट में भर्ती हुई थी. रात में उसे शौचालय जाना था. महिला ने इसके लिए स्टाफ को आवाज दी. लेकिन मौके पर कोई स्टाफ नहीं होने के कारण कोई मदद के लिए काफी देर तक नहीं पहुंचा. जिसके बाद महिला खुद किसी तरह शौचालय पहुंची. इसी दौरान महिला का अचानक प्रसव हो गया. और बच्चा कमोड में गिर कर फंसा गया. दर्द से परेशान महिला ने मदद के लिए काफी आवाज दी. लेकिन काफी देर तक कोई पहुंच नहीं पाया. काफी देर तक कमोड में फसे रहने के कारण बच्चे की मौत हो गई. 

बच्चों में बड़ों से ज्यादा प्रभावी कोवैक्सीन, 90 दिन में आए एंटीबॉडी के बेहतर रिजल्ट

काफी समय बाद एक स्टाफ नर्स वहां पहुंची और उसने महिला के पति को सूचना दी. जिसके बाद महिला का पति वहां पर पहुंचा लेकिन तब तक नवजात की जान जा चुकी थी. मामले की जानकारी मिलते ही अस्पताल में हड़कंप मच गया. अस्पताल में डॉक्टर और स्टाफ नर्स की गैरमौजूदगी की बात पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. मामला बढ़ता देख मेडिकल कॉलेज प्राचार्य ने जांच के आदेश दिए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो भी मामले में दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. इस तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें