कानपुर: हाउस टैक्स में खेल पर सदन में हंगामा, मेयर ने दिया जांच के आदेश

Smart News Team, Last updated: Mon, 20th Dec 2021, 4:25 PM IST
  • कानपुर में हाउस टैक्स का बिल बनाने में हो रहे खेल पर रविवार को नगर निगम के सदन में जमकर हंगामा हुआ. सदन में हुए हंगामे के बाद कानपुर महापौर ने इस मामले की जांच के आदेश दे दिया है. जांच में दोषी पाए जाने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.
कानपुर: हाउस टैक्स में खेल पर सदन में हंगामा, मेयर ने दिया जांच के आदेश

कानपुर. कानपुर में हाउस टैक्स का बिल बनाने को लेकर चल रहे खेल पर रविवार को नगर निगम के सदन में जमकर हंगामा हुआ. इस हंगामे के बाद कानपुर मेयर ने इस मामले के जांच के आदेश दे दिया है. इसके साथ ही यह भी कहा कि सदन तब तक चलता रहेगा जब तक इस खेल का निस्तारण नहीं हो जाता है. वहीं गलत बिल बनाने वाले कर्मचारी या अपराधियों का नाम सामने आने के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. 

दरअसल सदन में डॉक्टरों के निजी क्लिनिक के लाइसेंस शुल्क के प्रताव पर चर्चा हो रही थी. जिसपर बीजेपी पार्षद दल के उप नेता सत्येंद्र मिश्र ने आपत्ति जताते हुए कहा कि डॉक्टर परामर्श उनके नाम पर मनमानी फीस वसूलते हैं. जांच से लेकर दबावों तक हजारों रुपए लिए जाते हैं. जिसमें मरीज का घर द्वार सब बिक जाता है. ऐसे में उन्हें नगर निगम को लाइसेंस शुल्क देने में क्या दिक्कत है.

कांग्रेस की तरह BJP भी केंद्रीय एजेंसियों से डराने का कर रही काम- अखिलेश यादव

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सदन में हमें अवगत कराएं की डॉक्टर नगर निगम के कर्मचारियों पार्षदों या गरीब लोगों की निशुल्क इलाज करते हैं. अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो उनसे वहीं वसूली की जानी चाहिए जो निर्धारित की गई है. आगे कहा कि हमें ऐसे लोगों को राहत देने के बारे में सोचने की जरूरत है जो लोग करीब है. जो हकीकत में राहत पाने के हकदार है.

सत्येंद्र मिश्रा ने आगे कहा कि उनके पास एक हजार से ज्यादा ऐसे मामले हैं. जिसमें हाउस टैक्स के बिलों में भारी खेल किया गया है. किसी का 24 वर्ग गज का मकान है जिस पर दो लाख का बिल बना दिया गया है. जिसके चलते दंपति अब दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं. कई ऐसे है जिनका बिल आठ लाख का था जिसे 2 लाख कर दिया गया है. जिसके बाद मेयर ने सहायक नगर आयुक्त  एवं जोनल अधिकारी को बुलाकर कहा कि अगर 8 लाख का बिल ठीक था तो उसे घटाकर 2 लाख क्यों किया गया गलत बिल बनाने वालों को हर हाल में सस्पेंड किया जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें