IIM इंदौर की मदद से अत्याधुनिक हो जाएगा कानपुर का ट्रैफिक, एंबुलेंस को बनेगा ग्रीन कॉरिडोर

ABHINAV AZAD, Last updated: Tue, 31st Aug 2021, 10:54 AM IST
  • कानपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के मुख्यालय में शहर को सुव्यवस्थित, खूबसूरत और अत्याधुनिक बनाने के लिए शुक्रवार को स्मार्ट सिटी, पुलिस कमिश्नरेट, केडीए और आईआईएम के बीच एमओयू पर संयुक्त हस्ताक्षर किए गए.
शुक्रवार को स्मार्ट सिटी, पुलिस कमिश्नरेट, KDA और IIM के बीच एमओयू पर संयुक्त हस्ताक्षर हुए.

कानपुर. ट्रैफिक जाम समेत अन्य परेशानियों से जल्द ही निजात मिलने वाली है. दरअसल, आईआईएम इंदौर की तकनीकी मदद से कानपुर शहर के ट्रैफिक को अत्याधुनिक बनाया जाएगा. विदेशों के तर्ज पर मुख्य मार्गों पर इमरजेंसी होल्डर बनाए जाएंगे. यह एक ग्रीन कॉरिडोर होगी जो जो मरीजों को अस्पताल तक पहुंचाने वाली इमरजेंसी वैन के लिए होगी. इसके अलावा इस पर वीवीआईपी मूवमेंट भी हो सकेगा. बता दें कि कानपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के मुख्यालय में शहर को सुव्यवस्थित, खूबसूरत और अत्याधुनिक बनाने के लिए शुक्रवार को स्मार्ट सिटी, पुलिस कमिश्नरेट, केडीए और आईआईएम के बीच एमओयू पर संयुक्त हस्ताक्षर किए गए.

आईआईएम के निदेशक हिमांशु राय के मुताबिक, यहां जो भी प्रोजेक्ट बनाए जाएंगे उसमें उनकी टीम तकनीकी मदद मुहैया कराएगी और कार्ययोजना तैयार करेगी. एमओयू पर कमिश्नर एवं स्मार्ट सिटी के चेयरमैन डॉ. राजशेखर, पुलिस कमिश्नर असीम अरुण और केडीए उपाध्यक्ष अरविंद सिंह ने भी हस्ताक्षर किए. उन्होंने आगे बताया कि आईआईएम के सहयोग से अब अपना शहर भी साफ होगा.

तेजस के बाद अब 151 नई प्राइवेट ट्रेनें दौड़ाने की तैयारी में रेलवे, 2023 तक शुरू होगा संचालन

आईआईएम के निदेशक हिमांशु राय ने आगे बताया कि लखनऊ की तरह कानपुर में भी एक नया गाना तैयार होगा जिसे गाकर लोग कूड़ा घरों से अलग-अलग देंगे. गौरतलब है कि कानपुर में कूड़ा उठाने वाली गाड़ियों में गाना बजता है 'कूड़ा वाला आया, घर से कूड़ा निकाल' गाना लखनऊ के लिए बना था. अब यह गाना यहां की भाषा में बनाया जाएगा. कार्यक्रम का संचालन नगर आयुक्त एवं स्मार्ट सिटी के सीईओ शिव शरणप्पा जीएन ने किया. इसके अलावा पुलिस कमिश्नर और कमिश्नर ने आईआईएम के आगे आने पर खुशी जताई और आभार प्रकट किया. साथ ही इस मौके पर अपर नगर आयुक्त भानु प्रताप सिंह और स्मार्ट सिटी के नोडल अधिकारी आरके सिंह भी मौजूद रहे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें