आईआईटी कानपुर निदेशक अभय करंदीकर ने जीती कोविड 19 से जंग, जिले में कोरोना बेकाबू

Smart News Team, Last updated: 18/08/2020 08:21 PM IST
  • आईआईटी कानपुर के निदेशक अभय करंदीकर कोरोना पॉजिटिव से कोरोना निगेटिव हो गए हैं. करंदीकर 5 अगस्त को कोरोना के मरीज निकले थे जिसके बाद उन्हें दिल्ली के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था. लेकिन कानपुर जिला में कोरोना का कहर थम नहीं रहा है. सोमवार को नौ लोगों की मौत हो गई है.
कानपुर आईआईटी निदेशक अभय ने कोरोना से लड़ाई जीती.

कानपुर. आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रोफेसर अभय करंदीकर ने कोरोना से लड़ाई जीत ली है. उनकी कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव आई है. डॉक्टरों ने उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है. अभी वे संस्थान के नोएडा सेंटर में क्वारंटाइन हैं. संस्थान प्रशासन के अनुसार प्रोफेसर करंदीकर क्वारंटाइन पीरियड पूरा करने के बाद संस्थान में वापस लौटेंगे.

करंदीकर में 2 अगस्त को हल्के बुखार के साथ कोरोना के लक्षण दिखाई दिए थे. संस्थान के हेल्थ सेंटर पर जांच कराने के बाद करंदीकर ने कोरोना की जांच कराई. रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें दिल्ली के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था. यह पहला मौका है जब आईआईटी कानपुर के निदेशक नोएडा सेंटर में रुके हैं. 

यूपी में शूटिंग गाइडलाइंस के लिए राजू श्रीवास्तव ने लिखा अवनीश अवस्थी को पत्र

दूसरी तरफ, कानपुर में कोरोना का कहर थम नहीं रहा है. कोरोना वायरस से 9 मरीजों की मौत हो गई है. मरने वालों में सात पुरुष और दो महिलाएं शामिल हैं. ज्यादातर रोगी डायबिटीज, गुर्दा रोग, हाइपरटेंशन जैसे रोगों की गिरफ्त में रहे थे. इसके साथ ही कोरोना ने जिला कारागार में भी दस्तक दे दी है.  

कानपुर: बिकरु कांड के पचास हजार इनामी धर्मेंद्र उर्फ हीरू ने कोर्ट में किया सरेंडर

सोमवार को चार कर्मचारी, दो बंदी रक्षक और 34 बंदी संक्रमित मिले. जिले में अब कोरोना मरीजों की संख्या 10,993 पहुंच गई है. अब तक 333 मरीजों की मौत हो चुकी है. 6,474 लोग रिकवर कर चुके हैं जबकि एक्टिव मामलों की संख्या 4186 है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें