आईआईटी कानपुर ने तैयार किया विशेष हेलीकॉप्टर, जानिए कया है खास...

Smart News Team, Last updated: 03/02/2021 09:25 AM IST
  • आईआईटी कानपुर ने ऐसा हेलीकॉप्टर बनाया है जो बर्फीले इलाकों में छिपे  दुश्मनों का आसानी से पता लगा सकेगा. बेंगलुरु में तीन से पांच फरवरी के बीच होने वाले एशिया के सबसे बड़े एयर शो एयरो इंडिया 2021 में ये हेलीकॉप्टर अपना जलवा बिखरने को तैयार है.
आईआईटी कानपुर ने तैयार किया विशेष हेलीकॉप्टर. ( सांकेतिक फोटो )

कानपुर: आईआईटी कानपुर ने एक ऐसा हेलीकॉप्टर तैयार किया है जो बर्फीले इलाके और दुर्गम पहाड़ों पर छिपे देश के दुश्मनों का आसानी से पता लगा सकेगा. आईआईटी स्टार्टअप इंड्योरएयर के हेलीकॉप्टर से किसी भी मिशन को आसानी से पूरा किया जा सकेगा. आईआईटी ने हेलीकॉप्टर को सेना को ध्यान में रखकर बनाया है. यह सेना को मेडिकल किट पहुंचाने और रेस्क्यू में भी प्रयोग किया जा सकता है. बेंगलुरु में तीन से पांच फरवरी के बीच होने वाले एशिया के सबसे बड़े एयर शो एयरो इंडिया 2021 में ये हेलीकॉप्टर अपना जलवा बिखरने के लिए तैयार है.

आईआईटी कानपुर के एयरोस्पेस इंजीनियरिंग विभाग ने इसको तैयार किया है. विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो. अभिषेक ने बताया कि, हेलीकॉप्टर के डिजाइन को सेना को ध्यान में रखते हुए बनाया गया हैं. विभाग ने इसमें मेडिकल किट बॉक्स के साथ सीबीआरएनई सेंसर, लिडार तकनीक के अलावा कई अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी का प्रयोग हुआ है. लिडार तकनीक के माध्यम से यह पहाड़, नदियों पर दुश्मनों का आसानी से पता लगा सकेगा. प्रो अभिषेक ने बताया, हेलीकॉप्टर का वजन महज 4 किलो है. साथ ही यह अन्य हेलीकॉप्टर की तरह लैंडिंग या टेकऑफ नहीं करेगा. यह वर्टिकल टेकऑफ व लैंडिंग करने से किसी भी स्थान से आसानी से उड़ान भर सकेगा.

कानपुर: बीजेपी और सपा नेता भिड़े, कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव कर जमकर किया हंगामा

पहाड़ों, बर्फ व आग में भी करेगा काम

प्रो अभिषेक के अनुसार, हेलीकॉप्टर माइनस 20 से 50 डिग्री सेल्सियस के बीच आसानी से काम कर सकता है. इसका प्रयोग पहाड़ियों पर या रेगिस्तान में भी किया जा सकता है. रेस्क्यू व सेना को ध्यान में रखकर इसमें विशेष कैमरे लगाए गए हैं, जो सेंसर से जुड़े हैं. यह 15 किमी की दूरी से भी वीडियो डाटा आसानी से भेज सकता है. इसमें क्राउड मॉनीटरिंग के लिए भी सेंसर लगे हैं.

CBSE ने जारी की 10वीं और 12वीं के परीक्षा की डेट शीट, देखें पूरा टाइम टेबल

यूपी के किसान का कमाल, स्ट्राबेरी की खेती में हजारों लगाकर लाखों की बंपर कमाई

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें