GSVM समेत पांच सम्बद्ध अस्पतालों में इमरजेंसी और OPD सेवा ठप, मरीज परेशान

ABHINAV AZAD, Last updated: Tue, 28th Dec 2021, 10:41 AM IST
  • GSVM मेडिकल कॉलेज और सम्बद्ध पांच अस्पतालों में इमरजेंसी और ओपीडी सेवा पूरी तरह से ठप है. GSVM मेडिकल कॉलेज प्रो. संजय काला ने जूनियर डॉक्टरों से बात कर समझाने की कोशिश की, लेकिन जूनियर डॉक्टर तैयार नहीं हुए.
GSVM मेडिकल कॉलेज समेत सम्बद्ध पांच अस्पतालों में इमरजेंसी और OPD सेवा पूरी तरह से ठप है.

कानपुर. जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में ओपीडी सेवा ठप हो गई है. साथ ही जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध पांच अस्पतालों में भी ओपीडी सेवाएं ठप हो गई है. बताया जा रहा है कि जूनियर डॉक्टर सुबह आठ बजे ओपीडी काउंटर गेट पर आ गए. जूनियर डॉक्टरों ने ओपीडी का ताला खोलने नहीं दिया. तब तक दूर-दराज इलाकों से सैकड़ों की तादाद में मरीज आ चुके थे. लेकिन ओपीडी नहीं खुलने के कारण मरीज अस्पताल में निराश बैठे हुए हैं.

दरअसल, सोमवार की देर रात जूनियर डॉक्टरों ने इमरजेंसी सेवाएं पूरी तरह ठप कर दी. वहीं अब जूनियर डॉक्टरों ने ओपीडी बंद कराने का फैसला किया है. आलम यह है कि पर्चे नहीं बन रहे हैं. बताया जा रहा है कि जब सीनियर कंसलटेंट के कमरे खोलने की कोशिश की गई तो उसे भी बंद करा दिया गया. इस वजह से अस्पताल में इलाज की व्यवस्था पूरी तरह बदहाल हो गई है.

जेल पहुंचा कानपुर का धनकुबेर पीयूष जैन, 14 दिन न्यायिक हिरासत में, DGGI ने नहीं मांगी रिमांड

इस बीच मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो. संजय काला ने जूनियर डॉक्टरों को समझाने की कोशिश की. लेकिन जूनियर डॉक्टर समझने को तैयार नहीं हुए. मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो. संजय काला ने बताया कि वह पूरी कोशिश कर रहे हैं, ताकि मेडिकल सेवा को जल्द से जल्द बहाल किया जा सके. अस्पताल की इमरजेंसी और ओपीडी सेवा बंद होने के बाद मरीजों में खौफ और अफरातफरी का माहौल है. आलम यह है कि अस्पताल के वार्ड तक में डॉक्टर नहीं हैं. ऐसे में गंभीर मरीजों के तीमारदार बेहद परेशान हैं. बताया जा रहा है कि सोमवार दोपहर से वार्ड में कोई डॉक्टर नहीं आए हैं. बताते चलें कि जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में ओपीडी सेवा ठप हो गई है. साथ ही जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध पांच अस्पतालों में भी ओपीडी सेवाएं ठप हो गई है. इस वजह से मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें