कानपुर: कीटनाशक दुकानदारों से ही पूछ रहे कृषि अधिकारी, बताओ कहां करें छापेमारी

Smart News Team, Last updated: 26/08/2020 06:32 PM IST
उत्तर प्रदेश के कानपुर में जिला कृषि रक्षा अधिकारी ने कीटनाशक दुकानदारों से ही छापेमारी के लिए लोकेशन पूछी है.
कृषि अधिकारी ने कीटनाशक दुकानदारों से ही छापेमारी के लिए लोकेशन पूछी है.

कानपुर. यूपी के कानपुर में कृषि अधिकारी कीटनाशक दुकानदारों से ही पूछा रहे हैं कि कहां छापा मारे. दरअसल कृषि विभाग को छापे मारने हैं लेकिन लोकेशन पूरी तरह मालूम नहीं है. इसी बाबत जिला कृषि रक्षा अधिकारी ने दुकानदारों से खुद ही पूछना बेहतर समझा कि कहां छापेमारी की जाए.

कानपुर के जिला कृषि रक्षा अधिकारी ने कीटनाशक विक्रेताओं को एक पत्र लिखा है. उस पत्र में अधिकारी की ओर से कहा गया है कि दुकानों की सही लोकेशन मालूम नहीं होने की वजह से छापेमारी में परेशानी आ रही हैं, इसलिए दुकानदार सही जानकारी मुहैया कराएं.

वाराणसी: शरारती तत्वों ने तोड़ी अंबेडकर की मूर्ति, घंटों चक्का जाम और हंगामा

जिला कृषि रक्षा अधिकारी आशीष कुमार सिंह ने पत्र में कीटनाशक विक्रेताओं को दुकान और गोदाम की सही लोकेशन से संबंधित दस्तावेज जमा कर गूगल मैपिंग कराने के निर्देश दिए हैं. इससे कृषि विभाग को छापेमारी में काफी आसानी रहेगी. इसी वजह से दुकानदारों से कृषि अधिकारी खुद पता पूछ रहे हैं.

वाराणसी में तेज रफ्तार बोलेरो से साइकिल सवार को टक्कर मारकर हुआ फरार, एक मौत

मालूम हो कि कानपुर जिले में 450 से ज्यादा कीटनाशक केंद्र हैं. इनमें किसी भी तरह की प्रतिबंधित कीटनाशक बिक्री के लिए समय-समय पर छापेमारी और नमूने भरने की कार्रवाई की जानी चाहिए लेकिन हकीकत कुछ और ही है. अधिकारियों को 300 से ज्यादा दुकानों की तो लोकेशन तक मालूम नहीं है तो छापा ही कैसे मारें.

हालांकि, दिखावे के लिए काम नहीं रुकता है. बड़ी-बड़ी कुर्सियों पर विराजमान अधिकारी अपने दफ्तर ही दुकानों का स्टॉक व बिक्री रजिस्टर मंगवा लेते हैं. इसी वजह से दुकानदार भी जमकर कालाबाजारी करते हैं. इसी को रोकने के लिए जिला कृषि अधिकारी आशीष कुमार सिंह ने यह पत्र भी लिखा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें