कानुपर और आगरा मेट्रो में हुआ बदलाव, देश के अन्य शहरों से होगी अलग, जानिए

Smart News Team, Last updated: 05/02/2021 02:05 PM IST
  • यूपीएमआरसी ने आगरा और कानपुर मेट्रो के डिजाइन में बदलाव किया है. दोनों शहरों में मेट्रो को चलाने के लिए ओएचई लाइन को ट्रैक के नीचे बिछाया गया है. इसी कारण ट्रैक के डिजाइन को फ्लैटेड किया जा रहा है. विभाग ने बताया है कि ऐसा करने से खर्च में कमी आएगी.
आगरा और कानपुर मेट्रो के डिजाइन में बदलाव.

कानपुर: देश के अन्य शहरों की अपेक्षा कानपुर और आगरा मेट्रो में कुछ बदलाव किया जा रहा है. इन दोनो ही शहरों में मेट्रो ट्रेन अलग रुप में नजर आएगी. यह बदलाव ओएचई लाइन को ट्रैक के नीचे से होने के कारण बदलाव किया गया है. पहले ओएचई लाइन मेट्रो की छतों के ऊपर से गुजरती थी. जिसके कारण ट्रेन की छतों को गोल बनाना जाता था. साथ ही इससे अतिरक्त समय और पैसा खर्च होता था. अब ट्रैक के डिजाइन को फ्लैटेड किया जा रहा है. इस ट्रेक पर ओएचई लाइन बिछाने का टेंडर दिया जा चुका हैं. अब यह काम जल्द ही शुरू हो जाएगा.

यूपीएमआरसी के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि कानपुर और आगरा मेट्रो के लिए कई प्रयोग किए गए हैं. इनसे कई लाभ होंगे. खर्च भी कम होगा और काम भी तेजी से होगा. कानपुर में निर्माण की रफ्तार शुरू से तेज है. हम लगातार अपनी सीमाओं और क्षमताओं को बढ़ाने के लिए प्रयासरत हैं. साथ ही उन्होने कहा कि इंजीनियरों के साथ बात की जा रही है. यूपीएमआरसी ने कई तरह के डिजाइन का विकल्प मांगा है. खास तौर पर इंजीनियरों से छतों के डिजाइन को आकर्षक बनाने की बात हुई है. साथ ही लिफ्ट लगाने का टेंडर का काम जॉनसन कंपनी को दिया गया है.

अब यूपी में रेड़ी वालों से भी लिया जाएगा यूजर चार्ज, कैबिनेट की बैठक में इसपर होगा निर्णय

कानपुर मेट्रो का तेजी से चल रहा कार्य

कानपुर में आईआईटी से मोतीझील के बीच तक सात किलोमीटर तक 400 पिलर खड़े किए जा चुके हैं. सिर्फ दो किलोमीटर का कार्य ही बचा है. आईआईटी से लेकर गुरुदेव तक सभी पांच मेट्रो स्टेशनों के पहले तल का आधार तैयार किया जा चुका है. कल्याणपुर, एसपीएम अस्पताल, विश्वविद्यालय और गुरुदेव मेट्रो स्टेशनों के सभी डबल टी गर्डर रखे जा चुके हैं. बता दें कि मेट्रो स्टेशनों के लिए 434 डबल टी गर्डर का परिनिर्माण होना था, जिसमें से 332 टी गर्डर रखे जा चुके हैं. अगर यूपीएमआरसी ने इसी रफ्तार में निर्माण किया, तो इसी बर्ष नवंबर तक मेट्रो का ट्रायल हो जाएगा.

UPSSSC: वन रक्षक एवं वन्य जीव रक्षक (सामान्य चयन) की परीक्षा तिथि घोषित, जानें फुल डिटेल्स

कानपुर सेंट्रल पर यूवीएसएस से होगी वाहनों की स्कैनिंग, जानिए क्या है यूवीएसएस

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें