कानपुर : हैलट अस्पताल में बनेगा एपेक्स ट्रॉमा सेंटर, छत पर बनेगा हैलीपैड

Smart News Team, Last updated: 04/02/2021 11:44 AM IST
  • स्वास्थ्य क्षेत्र का बजट ढाई गुना होने से हैलट में प्रस्तावित एपेक्स ट्रॉमा सेंटर के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। असके निर्माण के लिए 237 करोड़ रुपये खर्च किए जाने हैं। सात मंजिला इस ट्रॉमा सेंटर की छत पर एक हैलिपेड का भी निर्माण किया जाना है।
फाइल फोटो

कानपुर : गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज के हैलट अस्पताल में एपेक्स ट्रॉमा सेंटर बनाने के लिए प्रस्ताव भेजा गया था। स्वास्थ्य क्षेत्र का बजट 137 प्रतिशत बढ़ाए जाने से अब इसके बनने की उम्मीद जग गई है।  यहां एयर एंबुलेंस की सुविधा भी उपलब्ध होगी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से इसके 273 करोड़ रुपये के प्रस्ताव पर मुहर लग सकती है। कोरोना महामारी के कारण इसका प्रस्ताव केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में लंबित है। ऐसा सेंटर अभी सिर्फ अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स दिल्ली) और वाराणसी के बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में ही है। इस अत्याधुनिक ट्रामा सेंटर की छत पर हैलीपैड भी बनेगा। वर्ष 2019 में ही केंद्र सरकार ने एपेक्स ट्रॉमा सेंटर की स्थापना के लिए सैद्धांतिक सहमति प्रदान की थी। उसी दौरान राज्य सरकार को लेवल-टू ट्रामा सेंटर के लिए दिए गए बजट की याद आ गई। इस पर अपर प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ. रजनीश दुबे ने महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा से उसका विवरण तलब कर लिया। इस वजह से यहां का एपेक्स ट्रामा सेंटर अटक गया। अब सभी औपचारिकताएं पूरी की जा चुकी हैं। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो. आरबी कमल ने बताया कि एपेक्स ट्रामा सेंटर की स्थापना के लिए शासन के माध्यम से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को प्रस्ताव भेजा गया है। इस बार स्वास्थ्य क्षेत्र का बजट सरकार ने काफी बढ़ा दिया है।

कानपुर : गुजैनी बाईपास पर बनेगा रैंप, मिलेगी जाम से निजात

सात मंजिला बनेगा एपेक्स ट्रॉमा सेंटर

1.सातवीं मंजिल की छत पर बनेगा हैलीपैड।

2.बेसमेंट : डॉक्टरों, एंबुलेंस एवं मरीजों के वाहनों की पार्किंग।

3.भूतल : ट्रामा इमरजेंसी, जहां गंभीर मरीज सीधे आएंगे, प्राइमरी मैनेजमेंट, रेडियोडायग्नोस्टिक ब्लॉक होगा।

4.प्रथम तल : इमरजेंसी मेडिसिन विभाग, उसके वार्ड एवं प्राइवेट रूम।

5.द्वितीय तल : जनरल सर्जरी विभाग, उसके वार्ड एवं प्राइवेट रूम।

6.तृतीय तल : आर्थोपेडिक विभाग, डॉक्टरों के कक्ष, वार्ड एवं प्राइवेट रूम।

7.चौथा तल : कार्डियक वेस्कुलर थोरेसिक सर्जरी (सीवीटीएस) विभाग, डॉक्टरों के कक्ष, वार्ड एवं प्राइवेट रूम।

8.पंचम तल : ऑपरेशन थियेटर, एनस्थीसियोलॉजी विभाग एवं आइसीयू होगा।

9.छठा तल : सेमिनार हॉल, कैफेटेरिया, एसआर एवं जेआर के कक्ष।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें