विकास दुबे की जमीन पर अब लोकल गुंडों का कब्जा, छुड़ाने को भटक रहा परिवार

Smart News Team, Last updated: Tue, 13th Jul 2021, 9:09 PM IST
  • कभी कानपुर में जिसकी दहशत से लोग अपनी जमीन छोड़ देते थे आज उसी गैंगस्टर विकास दुबे की जमीन पर लोकल गुंडों ने कब्जा कर लिया है. अब विकास का परिवार मदद मांगने के लिए पुलिस-प्रशासन की शरण में पहुंचा है. जानिए क्या है पूरा मामला.
पुलिस एनकाउंटर में मारे गए विकास दूबे की 3 बीघा जमीन पर बदमाशों ने कब्जा कर लिया है

कानपुर के बिकरू गांव में यूपी पुलिस के जवानों को शहीद करने वाले नामी बदमाश विकास दुबे का परिवार अब मदद मांगता हुआ यूपी पुलिस-प्रशासन की शरण में पहुंचा है. विकास दुबे के भतीजे का आरोप है कि लोकल गुंडों ने गांव की तीन बीघा जमीन पर कब्जा कर लिया है. दुबे के भतीजे ने इसकी शिकायत एसडीएम से की है. दुबे के भतीजे का कहना है कि वह पुलिस प्रशासन के सहयोग से जमीन पर कब्जा वापस पाना चाहता है.

गौरतलब है कि यह पहली बार नहीं है जब विकास दूबे के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद बदमाशों ने उसकी जमीन कब्जाने की कोशिश की है. इससे पहले भी दो बार विकास दुबे की जमीन बदमाशों के कब्जे से मुक्त कराई जा चुकी है. 

कानपुर के आनंदेश्वर महादेव मंदिर के 2 महंत गिरफ्तार, कोर्ट ने भेजा जेल

बता दें कि वर्ष 2016 में सकरवां गांव के शशिकांत द्विवेदी से विकास दुबे ने साढ़े 13 बीघे जमीन का बैनामा कराया था. बैनामा कराने के बाद विकास दुबे बटाईदारों से जमीन की खेती करा रहा था. उसके एनकाउंटर होने के बाद गांव के अमित बाजपेई और उसका पिता अशोक बाजपेई दबंगई दिखाकर बटाईदारों को जमीन जोतने से रोक रहे हैं.

11 जून को नदिहा चौकी प्रभारी ने सकरवां गाव जाकर प्रधान के सामने ऋचा दुबे को पूरी जमीन का कब्जा दिलवा दिया था. एसडीएम बिल्हौर आकांक्षा गौतम ने ऋचा दुबे को जमीन पर कब्जा दिलाने की रिपोर्ट जिले के अधिकारियों को भेज दी थी. एसडीएम के आदेश के बावजूद 9 जलाई को अमित बाजपेई और उसके पिता अशोक बाजपेई ने दबंगई के बल पर तीन बीघा जमीन जोत ली. एक बार फिर एसडीएम की तरफ से एसओ ककवन और राजस्व टीम को मौके पर भेजकर तीन बीघा जमीन का कब्जा वापस दिलाकर कार्रवाई करने के निद्रेश दिए हैं.

बेटी की हत्या कर फरार था पिता, अगले दिन बाग में फांसी पर लटका मिला शव

बता दें कि एसडीएम से शिकायत करने पहुंचा गैंगस्टर विकास दुबे का भतीजा विपिन बिकरू गांड में आरोपित प्रवीण दुबे का बड़ा भाई है. प्रवीण दुबे इटावा में पुलिस एनकाउंटर में मारा गया था. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें