कानपुर बिकरू कांड: एसआईटी ने जांच रिपोर्ट यूपी सरकार को सौंपी

Smart News Team, Last updated: 01/12/2020 02:44 PM IST
  • कानपुर में बिकरू कांड मामले में एसआईटी ने अपनी विस्तृत जांच रिपोर्ट उत्तर प्रदेश सरकार को सौंप दी है. एसआईटी ने करीब तीन हजार एक सौ पन्नों की रिपोर्ट तैयार कर यूपी सरकार को सौंपी है.
कानपुर के बिकरू कांड के आरोपित विकास दुबे के पुलिस एनकाउंटर में मारे जाने के बाद से फर्जी शिकायतें दर्ज हो रही है.

कानपुर. यूपी के कानपुर में बहुचर्चित बिकरू कांड में एसआईटी ने अपनी विस्तृत जांच रिपोर्ट उत्तर प्रदेश सरकार को सौंप दी है. आधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 9 बिंदुओं को आधार बनाकर एसआईटी ने करीब तीन हजार एक सौ पन्नों की रिपोर्ट तैयार की है.

तीन सदस्यीय एसआईटी में एसआईटी का गठन अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में किया गया है. इसमें अपर पुलिस महानिदेशक हरिराम शर्मा और पुलिस उप महानिरीक्षक जे रवींद्र गौड़ को सदस्य बनाया गया है. आज एसआईटी ने 9 बिंदुओं को आधार बनाकर करीब तीन हज़ार एक सौ पन्नों की विस्तृत रिपोर्ट सरकार को सौंपी है. कुछ दिनों पहले एसआईटी ने अपनी ए एक जांच रिपोर्ट सरकार को सौंपी थी. उसी की आधार पर कानपुर पुलिस ने विकास दुबे की पत्नी रिचा दुबे और उसके भाई समेत 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की.

दुबे को लेकर SIT का खुलासा- विकास चला रहा था चौबेपुर थाना, पुलिस करती थी पार्टी

बिकरू कांड़ का मुख्य आरोपी विकास दुबे के खजांची जय बाजपेयी पर एक और मुकदमा दर्ज

बता दें कि 2 जुलाई 2020 की रात को बिकरू गांव में पुलिस विकास दुबे को पकड़ने पहुंची थी. विकास दुबे को इसकी जानकारी पहले से ही मिल गई थी. जब पुलिस उसके घर के पास पहुंची तो पहले से छिपे बैठे बदमाशों ने हमला कर दिया. इस घटना में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. इसके बाद 10 जुलाई को पुलिस मुठभेड़ में विकास दुबे मारा गया था. इस मामले की जांच सरकार ने एसआईटी को सौंपी थी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें