कानपुर कारोबारी की पत्नी मीनाक्षी को SIT ने बताया- मनीष गुप्ता की हत्या हुई थी

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Wed, 6th Oct 2021, 6:23 PM IST
  • गोरखपुर के होटल कृष्णा पैलेस में 28 सितंबर की सुबह कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता की मौत की जांच कर रही एसआईटी के अधिकारियों ने पत्नी मीनाक्षी गुप्ता को फोन पर बताया है कि मनीष की हत्या हुई थी.
कानपुर रियल स्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी गुप्ता (फाइल फोटो)

गोरखपुर. गोरखपुर स्थित होटल कृष्णा पैलेस में 28 सितम्बर की सुबह तड़के कानपुर के रियल स्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता के मौत की जांचकर रही स्पेशल इनवेस्टीगेशन टीम (SIT) के अधिकारियों ने पत्नी मीनाक्षी गुप्ता को फोन पर बातचीत के दौरान बताया है कि मनीष की हत्या हुई थी. ये प्रूव हो चुका है. हत्या के मामले में आरोपित पुलिसवालों को SIT जल्द ही गिरफ्तार कर जेल भेज देगी. मीनाक्षी बताती हैं कि उन्हें एसआईटी की जांच पर भरोसा है लेकिन SIT के पास उनके सारे सवालों के जवाब नहीं है. इसलिए वो चाहती है कि इस हत्याकांड की जांच CBI से करायी जाय. 

मीनाक्षी ने पुलिसवालों के रवैये को लेकर कहा कि पुलिस ने मनीष के साथ ऐसा बर्ताव किया मानो वह कोई अपराधी हो. पुलिसवालों ने उनका सिर दीवार पर पटक-पटककर उन्हें मौत के घाट उतार दिया. मीनाक्षी ने बताया कि मनीष के साथ होटल में रुके दोनों दोस्तों ने इस बात की जानकारी दी थी. आगे उनका कहना कि पुलिस वहां पर औचक चेकिंग करने नहीं बल्कि मेरे पति मनीष को जान से मारने गई थी. उन्होंने बातचीत के दौरान बताया कि गोरखुपर पहुचकर जब मैंने मनीष के शव को देखा तो उनके सिर के दोनों तरफ गहरे चोट के निशान थे. पुलिसवालों ने इतनी बेरहमी से पटका था कि उनके कान के बगल वाली हड्डी धंस गई थी. उनका कहना है कि पुलिसवालों ने जरूर मनीष के सिर को कई बार दीवार पर पटका होगा तभी उन्हें इतनी गंभीर चोटें आईं थी.

IIT कानपुर बना रहा स्पेशल रोबोट, शरीर में जाकर बीमारी का लगाएगा पता

मीनाक्षी ने कहा कि इतनी क्रूरता के बाद भी पुलिसवालों का मन नहीं भरा. उन्हें यकीन है कि  पुलिस ने उनके पति को अपने सर्विस पिस्टल के पिछले हिस्से के बट से भी पीटा होगा. जिस कारण मनीष की मौत हो गई. गोरखपुर पुलिस, डॉक्टर या सरकारी अमले के किसी भी अधिकारी पर अविश्वास जताते हुए मीनाक्षी ने कहा कि वहां के लोग पुलिसवालों को बचाने के लिए कुछ भी कर सकते हैं. आगे उन्होंनें कानपुर से गोरखपुर के लिए रवाना हुई स्पेशल इनवेस्टीगेशन टीम (SIT) पर भरोसा जताते हुए कहा कि फिलहाल टीम सही जांच कर रही है मगर कुछ सवालों के जवाब उनके पास भी नहीं है.

योगी सरकार ने दे दी राहुल, प्रियंका, भूपेश समेत पांच कांग्रेस नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत

मीनाक्षी ने गोरखपुर पुलिस को लेकर कहा कि पुलिसवालों ने मनीष की हत्या के बाद गुमराह करने के लिए बहुत कहानी बनाने का प्रयास किया था. एक बार तो पुलिसवालों ने होटल कृष्णा पैलेस की डीवीआर भी गायब करा दी थी मगर वहां पर मेरा साथ देने वाले लोग इतने सक्रिय हो गए थे कि उन्होंने ऐसा कुछ होने नहीं दिया. यही कारण है कि पुलिसवालों की सच्चाई खुलकर सबके सामने आ गई. जांच करेगी तो ठीक रहेगा

कानपुर: गड्ढे में पलटी बच्चों से भरी तेज रफ्तार स्कूल वैन, ग्रामीणों का हंगामा

इसके आलावा मृतक मनीष की हत्या के मामले में उनकी पत्नी मीनाक्षी ने जोर देते हुए कहा कि अगर इस घटना की जांच केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) करेगी तो ही ठीक रहेगा. उन्हें ऐसा लगता है कि सीबीआई इस मामले की जांच करेगी तो पूरी तरह से निष्पक्ष जांच होगी और वह इंसाफ दिलाएगी. मीनाक्षी ने कहा कि उन्हें संतुष्टि तभी मिलेगी जब जांच टीम उनके सारे सवालो का जवाब देे देगी.

लखनऊ कमिश्नर बोले- राहुल गांधी को परमिशन नहीं, आए तो लखीमपुर, सीतापुर ना जाने का करेंगे आग्रह

मीनाक्षी के ये हैं सवाल-

मनीष के कपड़े नहीं मिले, जो वह घटना के समय पहने थे. उसमें खून लगा होगा. उसकी टेस्टिंग नहीं हो पाई.

पुलिस अपनी सरकारी गाड़ी से मनीष को लेकर हॉस्पिटल गई थी. लेकिन हास्पिटल पहुचने पर पुलिसवाले निजी गाड़ी में निकल गए. उस गाड़ी का भी कुछ पता नहीं चला.

जिस कमरे में मनीष को मारा गया वहां पर बेडशीट के अलावा कम्बल भी था. दोनों गायब हैं, जब कमरे में खून ही खून था तो उन कपड़ों पर भी लगा होगा.

पुलिस को चेकिंग करने के आदेश किसने और क्यों दिए थे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें