राम मंदिर में दान के नाम पर लोगों से लाखों की ठगी, शातिरों ने ऐसे किया फर्जीवाड़ा

Somya Sri, Last updated: Tue, 31st Aug 2021, 2:41 PM IST
  • शातिर चोरों ने राम मंदिर और सिद्धिविनायक मंदिर का अकाउंट बनाकर लोगों से 14 लाख से ज्यादा रुपए की ठगी की है. चोरों ने 400 ग्राहकों के फिंगरप्रिंट क्लोन कर उनके बैंक अकाउंट से पैसे निकाल लिए.
कानपुर: राम मंदिर का अकाउंट बनाकर 14 लाख से ज्यादा रुपये की ठगी ( सांकेतिक फोटो )

कानपुर: अब चोर भी नई नई तकनीक का सहारा लेकर चोरी करना सीख गए है. चोरी के सामने न तो उन्हें भगवान दिखते हैं और न हवालात. इसलिए भगवान के नाम पर लूट मची है. ताजा मामला कानपुर की है जहां शातिर चोरों ने राम मंदिर और सिद्धिविनायक मंदिर का अकाउंट बनाकर लोगों से 14 लाख से ज्यादा रुपए की ठगी की है. चोरों ने 400 ग्राहकों के फिंगरप्रिंट क्लोन कर उनके बैंक अकाउंट से पैसे निकाल लिए.

जानकारी के मुताबिक कानपुर के रायपुरवा स्थित रेड मिल नाम की कंपनी पेटीएम, फोन पे जैसे अन्य वॉलेट की तरह ही खुद का मनी वॉलेट चला रही थी. इस वॉलेट के गेटवे का इस्तेमाल कर शातिर चोरों ने लाखों रुपये ग्राहक के बैंक अकाउंट से अपने अकाउंट में ट्रांसफर कर लेते थे. शातिरों का ऑफिसियल अकाउंट यस बैंक में हैं.

अब कानपुर से प्रयागराज का सफर होगा आसान, इतने घटें में यात्रा कर सकेंगे पूरी

 इस मामले की सच्चाई तब सामने आई जब कंपनी के डायरेक्टर आशीष पालीवाल को बैंक की ओर से एक मैसेज आया जिसमें जिसमें लिखा था कि उनके खाते से 14 लाख 12 हजार काटकर ग्राहकों के खाते में दिए जा रहे हैं. जब कंपनी ने इसके ऊपर जांच पड़ताल की तो उन्हें मालूम चला कि यह रकम तीन ट्रस्ट के ज़रिए हेरा फेरी कार्ड ट्रांसफर किए गए हैं. केयर लाइफ चैरिटेबल ट्रस्ट, श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र और श्री सिद्धि विनायक गणेश टेंपल ट्रस्ट है जिसके नाम पर ग्राहकों के दस्तावेजों की हेराफेरी कर रकम को ट्रांसफर किये गए.

कंपनी के डायरेक्टर आशीष पालीवाल ने कहा कि, 'मुझे फ्रॉड की जानकारी तब हुई जब बैंक ने उन्हें जानकारी दी. तफ्तीश करने पर पता चला कि तीन ट्रस्टों के नाम से बनाए गए अकाउंट के जरिये फर्जीवाड़े को अंजाम दिया गया.' इसके बाद आशीष पालीवाल ने इस पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी. फिलहाल पुलिस इस मामले की तफ्तीश में जुटी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें