कानपुर: कंगाल BIC कपड़ा मिल ने श्रमिकों से कहा ना करें विरोध, मांगा VRS का मसौदा

Smart News Team, Last updated: 29/08/2020 09:14 AM IST
  • बीआईसी के चेयरमैन बलवंत कुमार ने श्रमिक नेताओं से कहा बीआईसी के पास फूटी कौड़ी भी नहीं है. इसलिए विरोध मत करिए. चेयरमैन ने कहा बीआईसी वीआरएस का पैकेज मांगकर सभी कर्मचारियों और श्रमिकों की विदाई चाहता है.
बीआईसी के चेयरमैन बलवंत कुमार ने श्रमिक नेताओं से कहा बीआईसी के पास अब फूटी कौड़ी भी नहीं है. 

कानपुर. कपड़ा मिलों की बड़ी कंपनी ब्रिटिश इंडिया कॉरपोरेशन यानी बीआईसी के चेयरमैन बलवंत कुमार ने लाल इमली में शुक्रवार को श्रमिक नेताओं के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से बातचीत किया. चेयरमैन ने श्रमिक नेताओं से स्पष्ट किया कि बीआईसी कंगाल हो गई है. अब बीआईसी के पास फूटी कौड़ी भी नहीं है. चेयरमैन बलवंत कुमार ने बताया कि कर्मचारियों का वेतन के लिए किसी तरह एनटीसी होल्डिंग कम्पनी से कर्ज लिया गया है. लेकिन, अब एनटीसी के पास भी पैसे खत्म हो गए है.

कानपुर: विदेशी शेयर मार्केट पर सट्टा लगाने वाला गिरोह का पर्दाफाश, 38 लाख बरामद

बीआईसी कंपनी कपड़ा मंत्रालय, भारत सरकार से वीआरएस का पैकेज मांगकर सभी कर्मचारियों और श्रमिकों की विदाई चाहता है. यह तभी संभव हो पाएगा जब सभी श्रमिक यूनियन एक साथ आएंगे.  चेयरमैन बलवंत कुमार ने श्रमिक नेताओं से कहा कि अगर आप विरोध करेंगे तो वीआरएस भी खत्म हो जाएगा. इससे श्रमिकों को कई सालों तक इंतजार करना पड़ सकता हैं. 

कानपुर: कोरोना वैक्सीन ट्रायल का पहला चरण पूरा, सैंपल ICMR भेजे गए

चेयरमैन ने श्रमिक नेताओं से कहा कि बीआईसी के बंद होने की सूचना भारत सरकार के सभी मंत्रालयों में चला गया है. कम्पनी को तो बंद होना ही है. हमारे प्रस्ताव से सरकार वीआरएस के लिए हमें लगभग 150 करोड़ रुपये देने पर राजी हो सकती है. इसके लिए सभी यूनियनों को ठंडे दिमाग से सोचना होगा कि कहीं कोई पेच न फंसे. अगर एक बार पेच फंस गया तो दो साल क्या कई सालों तक बिना वेतन की जिन्दगी काटनी पड़ सकती है. उन्होंने बताया कि इस फैसले के बाद भी कई दिक्कतें आने की संभावना है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें