ऑटो मोबाइल कंपनी का निदेशक बता बैंक से ठगे 65.80 लाख रुपये, ईमेल भेज 8 खातों में कराए पैसे ट्रांसफर

Swati Gautam, Last updated: Mon, 20th Sep 2021, 5:13 PM IST
  • ठगों ने विशाल आटोमूवर्स के डायरेक्टर के नाम से बैंक को ईमेल भेजकर खाते से 65.80 लाख रुपये हड़प लिए. यह पैसे 8 बैंकों में ट्रांसफर कराए. सभी बैंकों की डिटेल ईमेल द्वारा भेजी गई. ठगों ने बैंक में कॉल कर खुद को कंपनी का निदेशक बताया. बैंक कर्मी ने बताया कि ट्रूकॉलर पर भी कंपनी के निर्देशक का नाम प्रदर्शित हो रहा था.
ऑटो मोबाइल कंपनी का निदेशक बता साइबर अपराधियों ने बैंक से ठगे 65.80 लाख रुपये, ईमेल भेज 8 खातों में कराए पैसे ट्रांसफर (file photo)

कानपुर. देशभर में साइबर क्राइम धीरे धीरे बढ़ता ही जा रहा है. आए दिन साइबर ठगी के मामले सामने आते रहते हैं ऐसा ही एक मामला आटो मोबाइल कंपनी से ठगी का आया है जिसमें विशाल आटोमूवर्स के डायरेक्टर के नाम से बैंक को ईमेल भेजकर खाते से 65.80 लाख रुपये हड़प लिए. पुलिस को शक की है की इन साइबर अपराधियों के नाइजीरियन गैंग से संबंध हो सकते हैं. मामला सामने आने पर स्वरूप नगर थाने में यूनियन बैंक आफ इंडिया के शाखा प्रबंधक विनय दीक्षित ने पिछले दिनों धोखाधड़ी व आइटी एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था.

विनय दीक्षित ने बताया था कि बीती 10 सितंबर को उनके पास एक अंजान नंबर से कॉल आया. शख्स ने खुद को विशाल ऑटोमुवर्स कंपनी का निदेशक दौलत सिंह भदौरिया बताया और लोन खाते से आठ अलग अलग खातों में 65.80 लाख रुपये ट्रांसफर करा लिए थे. विनय ने बताया कि बड़ी शातिर तरीके से इस ठगी को अंजाम दिया गया था. साथियों ने ट्रूकॉलर पर भी अपना नाम निदेशक के नाम से दर्ज कर रखा था. जब विनय के पास ठग का कॉल आया तो ट्रूकॉलर पर निदेशक का नाम प्रदर्शित हुआ.

दोस्तों ने युवक को पांडु नदी में फेंककर जीजा से मांगे दो लाख, पुलिस ने नंबर ट्रैक कर 4 आरोपी धर दबोचे

इतना ही नहीं कॉल करने के बाद शातिरों ने फर्जी लेटरहेड पर खातों का ब्योरा भी ईमेल पर भेजा था. यह मेल भी एकदम ऑफिसियल तरीके से भेजा गया था. स्वरूप नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार पांडेय ने बताया कि खातों का ब्योरा और खातेदारों की केवाइसी मांगी गई है. उसके आधार पर टीम को जांच के लिए भेजा जाएगा. साथ में ठग ने जिस आठ खातों में पैसे ट्रांसफर कराए थे उनका ब्योरा व स्टेटमेंट मांगा गया है. छह खातों को फ्रीज भी करा दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें