बिल्डर्स की तरह टाउनशिप बनाएगा केडीए, फ्लैट ग्राहकों को अपार्टमेंट में सुविधा, सुरक्षा भी

Smart News Team, Last updated: Fri, 6th Aug 2021, 6:03 PM IST
  • केडीए को कॉरपोरेट कल्चर के रंग में ढालने की तैयारी शुरू की जा रही है. केडीए अब निजी टाउनशिप की तरह लोगों को सुविधाएं और सुरक्षा देगा. भ्रष्ट और काम में लापरवाही करने वाले अफसरों पर कार्रवाई की जाएगी. 
KDA का रंग-रूप बदलने की तैयारी, कॉरपोरेट की तरह करेगा काम, निजी टाउनशिप की तरह मिलेंगी सुविधाएं.

कानपुर. कानपुर विकास प्राधिकरण का रंग-रूप बदलने को लेकर अब काम किया जाना शुरू हो गया है. कानपुर विकास प्राधिकरण को कॉरपोरेट कल्चर की तरह काम करना होगा. उसे एक ब्रांड के रूप में प्रस्तुत किया जाएगा. केडीए में भ्रष्ट और काम में लापरवाही करने वाले अफसरों ने अपने काम का रवैया नहीं बदला तो उनपर भी शिकंजा कसा जाएगा. प्राइवेट टाउनशिप की तरह केडीए भी अपनी आवासीय परियोजनाओं में लोगों को नई सुविधाएं और सुरक्षा देगा.

केडीए के नए रूप को लेकर उपाध्यक्ष ने कहा कि यह एक स्वायत्तशासी संस्था है इसलिए इसे अब कर्मशियल के रूप में ढालना होगा. इसी के साथ सबसे ज्यादा जरूरी है कि केडीए के विधि विभाग को मजबूत किया जाए. जिससे जमीनों को लेकर ठीक से पैरवी की जा सके. जमीनों के लिए लैंड बैंक बनाया जाएगा जो फर्जीवाड़े को रोकने में मदद करेगा. भू-लेख वेबसाइट के जरिए जमीनों की क्रॉस चेकिंग कराई जाएगी जिससे अवैध कब्जों पर भी नजर रखी जा सके.

केडीए अब जहां भी पॉयलेट प्रोजेक्ट शुरू करेगा वहां पुलिस कमिश्नरेट का एक दफ्तर भी होगा. जिससे नगर निगम और पुलिस के साथ मिलकर योजनाओं की लांचिंग और उनका रख-रखाव ठीक ढंग से हो सके. इसी के साथ केडीए पुरानी योजनाओं की कमियों को भी सुधारेगा. केडीए का विकास करने के लिए दक्षिण भारत से तकनीक लाई जाएगी.  

कोरोना को लेकर IIT कानपुर की स्टडी ने बढ़ाई टेंशन, जानें डिटेल 

केडीए नक्शा, नामांतरण, फ्री होल्ड, रजिस्ट्री, निरस्तीकरण, आवंटन और कब्जा आदि सुविधाओं पर काम करने के लिए दक्षिण भारत की तकनीक लाएगा. इन सुविधाओं के आने से मध्य वर्ग के लोगों को राहत मिलेगी. इसी के साथ महीनों तक फ्लैट और जमीनों को लेकर ऑनलाइन एप्लीकेशन पेंडिंग नहीं रहेंगे. इसी के साथ नक्शे को लेकर जो भी परेशानियां होंगी उन्हें सुलझाने के लिए कॉल सेंटर बनाया जाएगा. इससे नक्शा पास करने में देरी नहीं होगी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें