870 करोड़ के पेयजल पाइपलाइन प्रोजेक्ट में घोटाला, 24 इंजीनियरों के खिलाफ केस

Anurag Gupta1, Last updated: Sun, 19th Sep 2021, 5:08 PM IST
870 करोड़ के पेयजल पाइपलाइन योजना में घोटाला. जल निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर शमीम अख्तर ने 24 अभियंताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया. जिसमें से 16 लोग रिटायर हो चुके हैं. 
पेयजल पाइपलाइन बिछाने में करोड़ों का घोटाला

कानपुर. शुरूआत से विवादों में घिरी जेएनएनयूआरएम पर एक बार फिर विवाद खड़ा हो गया है. जेएनएनयूआरएम को शहर में पेयजल पाइपलाइन बिछाने का काम मिला है जिसमें बड़ा घोटाला सामने आया है. घटिया पाइप लाइन बिछाने को लेकर जब बखेड़ा ख़ड़ा हुआ तब अधिकारियों ने जांच शुरू की. जिसके बाद जल निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर शमीम अख्तर ने 24 इंजीनियरों  के खिलाफ फजलगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है. मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता परियोजना, प्रबंधक परियोजना अभियंता, सहायक परियोजना अभियंता को मामले में आरोपी बनाया गया है जिसमें से 16 लोग रिटायर हो चुके हैं.

बता दें इस परियोजना के तहत 870 करोड़ का बजट पास हुआ था. जिसमें पूरे शहर में पेयजल पाइपलाइन बिछने का कार्य होना था. ये कार्य शुरू से अंत तक विवादों में बना रहा. पता चला कि पाइपलाइन बिछाने वाले ठेकेदार पर अभियंताओं ने न तो अंकुश लगाया गया न ही उसकी जांच की रिपोर्ट तैयार की. जिसके बाद जब घोटाले का पता चला तो जांच शुरू हुई. कार्य के लिए पास हुए 870 करोड़ के बजट का अधिकारियों पर बंदरबाट करने का आरोप है. जांच के दौरान पता चला कि घटिया पाइपलाइन बिछाई गई है साथ ही जोहर पांच से 15 मीटर के बीच पाइप लाइन में लीकेज मिला. जिसके चलते परियोजना प्रबंधक अभिनव के खिलाफ फजलगंज थाने में मामला दर्ज कराया गया. बता दें अन्य 24 पर भी मुकदमा दर्ज हुआ बाकी जांच अभी चल रही है.

ईमेल हैक कर कंपनियों को लगाया करोड़ो का चूना, साइबर ठगों की तलाश में जुटी पुलिस

एडिशनल डीसीपी ने बताया:

एडिशनल डीसीपी डॉक्टर अनिल कुमार ने बताया कि गंगा बैराज इकाई के अधिकारी की तहरीर पर मामला दर्ज किया गया है. विवेचक ने एक करोड़ से अधिक के घोटाले का जिक्र किया है. मामले पर संज्ञान लेते हुए जल्द से जल्द इकॉनामिक ऑफेंस विंग को भेजने के लिए कार्यवाही की जा रही है. जांच में दोषी पाए जाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें