कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों के खिलाफ शिकायतें निकली फेक, होगी कारवाई

Smart News Team, Last updated: 13/09/2020 03:12 PM IST
  • बिकरू कांड के आरोपित विकास दुबे एनकांउटर के बाद से बिकरू के आसपास के गांव के लोगों ने गैंगस्टर विकास के साथियों के खिलाफ 100 से ज्यादा शिकायतें आ चुकी है. इनमें से लगभग एक दर्जन से ज्यादा शिकायतें फर्जी ‌निकली है. पुलिस का कहना है कि इनके खिलाफ वो कार्रवाई करेंगे.
कानपुर के बिकरू कांड के आरोपित विकास दुबे के पुलिस एनकाउंटर में मारे जाने के बाद से फर्जी शिकायतें दर्ज हो रही है.

कानपुर. कानपुर के बिकरू कांड के आरोपित विकास दुबे के पुलिस एनकाउंटर में मारे जाने के बाद से फर्जी शिकायतें दर्ज हो रही है. पुलिस की जांच में लगभग एक दर्जन से ज्यादा शिकायतें सही नहीं निकली है. इनमें से जितनी भी शिकायत सही है उन पर पुलिस कार्रवाई कर रही है. आईजी रेंज के मोहित अग्रवाल ने कहा कि विकास और उसके गुर्गों को खिलाफ हुई सभी शिकायतों की जांच हो रही है और इनमें जो भी फर्जी निकली है उसमें नाम और पते गलत दिए हुए है. किसी में तो है नाम और एड्रेस भी सही नहीं है. इनके खिलाफ भी पुलिस एक्शन लेगी.

कानपुर में लव जिहाद का एक और केस, रमन बोलकर दोस्ती, अफजल बोलकर शादी

बिकरू और उसके आसपास के गांव के लोग विकास दुबे की मौत के बाद से उसके साथियों के खिलाफ पुलिस के सामने पेश होने लगे. जब इन शिकायतों की जानकारी डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस (डीआईजी) ने इकट्ठा की तो पता चला कि अब तक चौबेपुर थाना, सीओ बिल्हौर, एसपी ग्रामीण, डीआईजी, आईजी और एडीजी के पास‌ अब तक 100 से ज्यादा शिकायत के प्रार्थना पत्र आ चुके हैं. इनको जांचने की जिम्मेदारी डीआईजी ने सीओ बिल्हौर को दे दी है.

कानपुर: मेडिकल एसोसिएशन की नई टीम का हुआ चुनाव, डॉ नीलम अध्यक्ष, दिनेश बने सचिव

गौरतलब है कि 2 जुलाई की रात को गैंगस्टर विकास दुबे को पुलिस गिरफ्तार करने बिकरू गांव गई थी. इस दौरान पुलिस की टीम पर विकास और उसके गुर्गों ने फायरिंग कर दी जिसमें कि तत्कालीन बिल्हौर सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए और 6 चोटिल हो गए थे. इसके बाद विकास एक हफ्ते तक फरार रहा और उसे मध्य प्रदेश में उज्जैन के महाकाल मंदिर से पकड़ा गया. मंदिर से वापस कानपुर लाए जाने के दौरान दुबे का एनकाऊंटर हो गया. पुलिस का कहना था कि विकास दुबे और हमारे बीच मुठभेड़ हुई थी जिसमें कि दुबे मारा गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें