कानपुर: नाव की ठेकेदारी व अवैध शराब के कारोबार से किसान बन गया करोड़पति

Smart News Team, Last updated: Tue, 6th Oct 2020, 7:13 PM IST
  • कानपुर के नत्थापुरवा में रहने वाला रामदास नाव की ठेकेदारी व अवैध शराब के कारोबार से करोड़पति बन गया. दहशत इतनी हो गई कि उसकी मर्जी के बिना जमीनों की खरीद-फरोख्त करना भी लोगों के लिए संभव नहीं था.
अवैध शराब के कारोबार से किसान बन गया करोड़पति

कानपुर। कानपुर में ग्रामीणों को नदी के इस पार से उस पार पहुंचाने वाला एक किसान अपनी काली कमाई से करोड़पति बन बैठा.धीरे धीरे अपराध की दुनिया में उसका नाम बढ़ता चला गया. जिसके बाद क्षेत्र के लोगों में उसकी दहशत बन गई. दहशत इतनी हो गई कि अब क्षेत्र में बिना उसकी मर्जी के जमीन की खरीद-फरोख्त करना भी लोगों के लिए संभव नहीं था. लोगों को दरिया पार कराने वाला किसान आज अपराध की दुनिया में चर्चित चेहरा बन गया था.

दरअसल कानपुर के रामपुर परमट घाट से 500 मीटर दूर रहने वाला रामदास पहले लोगों को दरिया पार कराया करता था. पुल नहीं होने की वजह से सैकड़ों लोग रोजाना नदी पार करते थे. धीरे-धीरे उसने नाव चलाने का ठेका ले लिया.

कानपुर: वायु प्रदूषण रोकने के लिए बनेगा व्हाट्सऐप ग्रुप, विशेषज्ञ ‌होंगे शामिल

इसके बाद गंगा रेती में सब्जियां उगाने लगा. इसी दौरान उसने कच्ची शराब की भठ्ठी भी खोल ली और अवैध शराब का कारोबार शुरू कर दिया. अवैध शराब के कारोबार में वह इतना लिप्त हो गया कि चौकी से लेकर थाने व जिले स्तर तक पुलिस में उसकी पैठ हो गई.

वर्ष 1993 में नत्थापुरवा गांव के किसान मनीराम की हत्या के आरोप में वह छूट कर वापस आ गया. इसके बाद उस पर कन्नौज के एक रिश्तेदार के साथ मिलकर छिबरामऊ के व्यापारी के बेटे के अपहरण और फिरौती का मामला दर्ज किया गया. जहां व्यापारी के बेटे की हत्या करने का उस पर आरोप लगा लेकिन ठोस सबूत नहीं मिलने के चलते वह केस में बरी हो गया. धीरे-धीरे उसकी तूती बोलने लगी धीरे-धीरे उसने पंचायत राजनीति में भी अपना भाग्य आजमाना शुरू कर दिया.

जहां दबंगई के बल पर उसने ग्राम प्रधान का चुनाव जीत लिया. इसके बाद उसने पक्के मकान का निर्माण करवाया जो बाढ़ के साथ बह गया. बाढ़ के चलते पूरा गांव धीरे-धीरे सड़क की ओर शिफ्ट होने लगा. जहां उसने जमीन की खरीद-फरोख्त शुरू कर दी. यहीं से उसका कारवां चल निकला और वह रियल इस्टेट में भी अपनी धाक जमाने में सफल रहा. वर्तमान में उसका बेटा उसके कारोबार को संभाल रहा है . लोगों को नदी पार कराने वाला एक मामूली सा किसान सात लग्जरी गाड़ियों का मालिक है, जबकि दो आलीशान मकान बनवा रहा है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें