गैंगस्टर विकास दुबे के साथी अमर दुबे के एनकाउंटर को मजिस्ट्रेट जांच में क्लीनचिट

Smart News Team, Last updated: Sat, 30th Jan 2021, 12:34 PM IST
कानपुर के गैंगस्टर विकास दुबे केस पुलिस एनकाउंटर मारे गए अमर दुबे के एनकाउंटर को क्लीनचिट दे दी गई है. जांच मजिस्ट्रेट ने डीएम को 216 पेज की रिपोर्ट सौंप दी है, जिसमें कि एनकाउंटर को सही ठहराया गया है.
विकास दुबे के साथी अमर दुबे के एनकाउंटर को मजिस्ट्रेटी जांच में क्लीनचिट

कानपुर. कानपुर के गैंगस्टर विकास दुबे केस पुलिस एनकाउंटर मारे गए अमर दुबे के एनकाउंटर को क्लीनचिट दे दी गई है. डीएम को 216 पेज की रिपोर्ट जांच मजिस्ट्रेट ने सौंप दी है, जिसमें कि एनकाउंटर को सही ठहराया गया है. 

बता दें कि अमर दुबे का एनकाउंटर 8 जुलाई को मौदहा में हुआ था. इसकी मजिस्ट्रेटा जांच कराई गई थी. मजिस्ट्रेट ने जांच के लिए 13 से 17 जुलाई के बीच लोगों से केस से जुड़े सबूत देने के लिए कहा. कोई भी व्यक्ति डर के कारण सामने नहीं आया. कई बार समय भी बढ़ाया गया. 

बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे की पत्नी ऋचा की अग्रिम जमानत मंजूर

रिपोर्ट में इसके अलावा एफएसएल टीम की रिपोर्ट को भी शामिल किया गया है. इस रिपोर्ट में कहा गया कि अमर दुबे ने फायरिंग की थी. अमर के हाथ से जीएसआर (गन शॉट रेसीड्यू) मिला था. जांच में बताया गया कि एनकाउंटर में नौ गोलियां चली थीं जिसमें से अमर को सात गोली लगीं. चार शरीर के आरपार निकल गई थी. बाकि तीन गोलियों के टुकड़े शरीर में मिले थे. एनकाउंटर में शामिल पुलिस और स्पेशल टास्क फोर्स कर्मियों के अलावा अमर दुबे के पिता के बयान को भी रिपोर्ट में शामिल किया गया है. 

विकास दुबे केस में खुलासा, विधायक की पैरवी से बना था जय बाजपेई का शस्त्र लाइसेंस

आपको बता दें कि 2 जुलाई 2020 को कानपुर के बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों को पुलिस की टीम पकड़ने गई थी. इस दौरान विकास और उसके गुर्गाें ने पुलिस की टीम पर हमला कर दिया था. जिसमें कि आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी.  इस मामले में आरोपित अमर दुबे का एनकाउंटर 8 जुलाई को मौदहा में हुआ था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें