शर्मनाक! कानपुर के हैलट अस्पताल में नहीं मिला इलाज, गेट पर बुजुर्ग की मौत

Sumit Rajak, Last updated: Sun, 26th Dec 2021, 8:54 AM IST
  • हैलट अस्पताल में शनिवार को मानवीय संवेदना को झकझोर देने वाली घटना हुई. अस्पताल में एक बुजुर्गों को इलाज नहीं मिला और उसने गेट के बाहर दम तोड़ दिया. बुजुर्ग सीने में दर्द की शिकायत लेकर शुक्रवार से हैलट के चक्कर लगा रहा था. चंदा कर उसका अंतिम संस्कार किया गया. बुजुर्ग दिल की बीमारी से पीड़ित था हैलट में दूसरे दिन बुलाया था. 
हैलट अस्पताल (फाइल फोटो)

कानपुर.हैलट अस्पताल में शनिवार को मानवीय संवेदना को झकझोर देने वाली घटना हुई. अस्पताल में एक बुजुर्गों को इलाज नहीं मिला और उसने गेट के बाहर दम तोड़ दिया. बुजुर्ग सीने में दर्द की शिकायत लेकर शुक्रवार से हैलट के चक्कर लगा रहा था. चंदा कर उसका अंतिम संस्कार किया गया.

मतैयापुरवा निवासी हीरालाल (55) शुक्रवार को हैलट इलाज को आए थे. उन्होंने शुक्रवार को 11ः49 बजे पर्चा (0095044) बनवाया. ओपीडी के कमरा नंबर 6 में डॉ. आरके वर्मा को देखना था. बुजुर्ग जब तक पहुंचते तब तक ओपीडी बंद हो चुकी थी. कमरा नंबर 6 दोपहर 12 बजे तक खुली रहती है. वहां बुजुर्गों को दूसरे दिन आने को कहा. वह दोबारा शनिवार को अपना परचा लेकर आया तो यहां कमरा नंबर 8 में डॉ. एमपी सिंह की ओपीडी में दिखाया. डॉ. एमपी सिंह ने देखा और उन्हें ईसीजी, इको जांच के साथ खून की अन्य जांच लिक दी. वह सुबह 10 बजे के आसपास पर्चा लेकर निकले. इस बीच हैलट गेट एटीएम के सामने लुढ़क गए. लोगों ने समझा कि बुजुर्ग लेट गए होंगे. इस बीच पुलिस और अन्य कर्मचारियों ने जाकर देखा. उन्हें उठाए तो सांस उखड़ चुकी थी. शव इमरजेंसी में ले जाया गया. जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. 

इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर और कन्नौज के ठिकानों से अब तक 240 करोड़ बरामद

पुलिस ने उसके पते पर जानकारी ली तो पत्नी बासमती मिली. उन्होंने बताया कि वह लोग सड़क पर ही सोते हैं. 3 दिन से सीने में दर्द की शिकायत कर रहे थे. हैलट जा कर दिखाने को कहा था.. शुक्रवार को वह नहीं दिखा पाए. शनिवार को सुबह 9 बजे दिखाने को निकल गए थे. महिला का कहना था कि उनका कोई  सहारा नहीं है. उप प्रमुख अधीक्षक आरके मोरिया ने बताया कि बुजुर्ग के मौत की जानकारी मिली है. यह जाने की कोशिश है कि किन हालातों में बुजुर्ग को शुक्रवार को नहीं देखा गया. अगर वह इतने गंभीर थे तो ओपीडी से उन्हें इमरजेंसी भेजा जाना चाहिए था. सोमवार को मामले  की जांच होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें