कानपुर: हैलट में दवा नहीं मिली, पानी टंकी पर चढ़ा मरीज, लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

Smart News Team, Last updated: 10/09/2020 12:59 PM IST
  • कानपुर के हैलट अस्पताल में एक मरीज को दवा नहीं मिली तो वह पानी की टंकी पर चढ़ गया. वहीं से वह चिल्ला चिल्लाकर डॉक्टर और स्टाफ पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया.
पानी टंकी पर चढ़ा मरीज.

कानपुर. कानपुर के हैलट अस्पताल में एक मरीज को दवा नहीं  मिली तो वह परिसर में स्थित पानी की टंकी पर चढ़ गया. चिल्ला चिल्लाकर डॉक्टर और स्टाफ पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया. जानकारी के अनुसार करीब दो घंटे तक युवक पानी की टंकी पर चढ़ा रहा. पुलिस ने उसे बड़ी मशक्कत करने के बाद उतार पाने में सफल रही. 

मिली जानकारी के अनुसार मरीज दिबियापुर औरैया का निवासी है. बताया जा रहा है कि डॉक्टर से दिखाने के बाद  मरीज को दवा नहीं मिली, तो वह इस पर डॉक्टरों और सुरक्षा गार्ड से नाराज हो गया. मरीज की नाराजगी इतनी बढ़ गई कि वह वहां पर डॉक्टरों और सुरक्षा गार्ड से भिड़ गया फिर गुस्से में आकर परिसर में ही पानी की टंकी पर चढ़ गया. बताया जा रहा है कि वह दो घंटे तक पानी की टंकी पर चढ़ा रहा. सूचना मिलने के बाद मौके पर पुलिस पहुंच गई. पुलिस ने उसे उतारने के लिए बड़ी मशक्कत की. तब जाकर वह उतरा. पुलिस उससे मामले की पूछताछ कर रही है. 

कानपुर: पुलिस स्टेशन के नजदीक बदमाशों ने किया वकील पर फायरिंग, मुंशी को लगी गोली

बताया जा रहा है कि 28 वर्षीय शिवजीत रावतपुर का रहने वाला है. वैसे उसने अपना पता दिबियापुर का लिखवाया. हैलट अस्पताल के इमरजेंसी में वह अपना इलाज कराने सुबह चार बजे ही पहुंच गया. डॉक्टर से उसने अपनी परेशानी बताई. उसे पैर में सूजन और दर्द से था. डॉक्टर उसे देखने के बाद एक्सरे कराने के लिए लिख दिए.

 

मरीज शिवजीत 

जानकारी के अनुसार एक्सरे कराकर आने के बाद डॉक्टर ने उसके परचे में चार दवाएं लिख और एक दर्द का इंजेक्शन लिख दी. दवा खरीदने को लेकर शिवजीत ने बताया कि उसके पास पैसे नहीं है. सरकारी अस्पताल है तो उसे दवाएं मिल जाएंगी. इसपर सुरक्षा गार्ड ने कहा कि दवाएं यहां से नहीं बल्कि ओपीडी से मिलेगी या फिर बाहर मिलेगी. शिवजीत ने सुरक्षा गार्ड पर आरोप लगाया कि वह उसे वहां से भगाया गया. इसके बाद शिवजीत मरीज की सुरक्षा गार्ड और जूनियर डॉक्टर से धक्का मुक्की हो गई. इसको लेकर मरीज अपनी शिकायत करने पुलिस चौकी चौकी पहुंचा, वहां भी उसकी सुनवाई नहीं हुई.  इससे होकर वह इमरजेंसी परिसर में ही पानी की टंकी पर चढ़कर डॉक्टर और व्यवस्था पर भ्रष्टाचार का आऱोप लगाकर  चिल्ला रहा था. 

कानपुर में ज्वेलरी खरीदने के बहाने तीन महिलाओं ने की चोरी, घटना सीसीटीवी में कैद

पुलिस ने बताया कि शिवजीत लॉकडाउन के कारण महीनों से बेरोजगार रहा है. वह एक पान मसाला फैक्ट्री में काम करता हैं. इन दिनों मसाला फैक्ट्री पर दो दिन काम चलता है तो दो दिन बंद रहता है. ऐसे में घर का खर्चा निकाल पाना उसके लिए मुश्किल हो गया है. पुलिस पूछताछ में शिवजीत ने कहा कि आखिर यह किस लिए सरकारी अस्पताल है? गरीब क्या मर जाएं?

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें