कानपुर: आग में जलती बहू को छोड़ भागे ससुराली, पिता ने अस्पताल पहुंचाया, मौत

Smart News Team, Last updated: 10/09/2020 07:05 PM IST
  • गजनेर गांव के सरुआ में विवाहिता आग की चपेट में आ गई जिसके बाद उसके ससुरालवाले उसे जलता छोड़कर भाग गए. मोहल्ले वालों ने उसके पिता को सूचना दी. पिता ने अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसकी मौत हो गई. पिता ने ससुरालवालों पर बेटी से मारपीट के बाद जिंदा जलाने का आरोप लगाया है.
मृतक शकुंतला की मौत के बाद गमजदा मायके वाले

कानपुर: कानपुर देहात में एक महिला के आग के चपेट में आने पर ससुरालवालों के भागने का मामला सामने आया है. गजनेर थाने के सेरुआ गांव में घर की बहू आग की चपेट में आ गई तो ससुराल वाले उसे जलता छोड़कर भाग निकले. खबर पाकर पहुंचे विवाहिता के पिता उसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल ले गए लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. पिता ने उसकी पिटाई के बाद जिंदा जलाकर मार डालने का आरोप लगाया है.

 जानकारी के मुताबिक सेरुआ गांव के रहने वाले अरुण कुमार की शादी पांच साल पहले अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र के माती निवासी सुरेश चंद्र की बेटी शकुंतला के साथ हुई थी. बुधवार शाम को किसी बात को लेकर शकुंतला और उसके पति के बीच झगड़ा हुआ था जिसके बाद उसके पति ने उसको पीटा था. गुरुवार सुबह शकुंतला संदिग्ध हालात में आग की चपेट में आ गई. जिसके बाद उसको आग की लपटों में घिरा देखकर ससुराल वाले जलता छोड़कर फरार हो गए. 

कानपुर: पुलिस स्टेशन के नजदीक बदमाशों ने किया वकील पर फायरिंग, मुंशी को लगी गोली

विवाहिता को आग में लिपटा देख मोहल्ले के लोगों ने आग बुझाने के बाद उसके मायके वालों को खबर  पहुंचाई. जिसके बाद माती से पिता सुरेश व उसके परिजन सेरुआ पहुंचे तथा गंभीर रूप से झुलसी शकुंतला को जिला अस्पताल में भर्ती कराया. यहां इमरजेंसी ड्यूटी पर मौजूद डा. जसवंत रत्नाकर ने उसको भर्ती कर उपचार शुरू किया, इसी बीच उसकी मौत हो गई. बेटी की मौत से परिजन बिलख पड़े, शकुंतला के पिता ने दामाद व उसकी मां पर बेटी की जलाकर मार डालने का आरोप लगाया. वहीं जिला अस्पताल से भेजी गई सूचना के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मामले की छानबीन शुरू कर दी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें