260 एकड़ में बनेगा कानपुर लेदर पार्क, मिलेंगी 50 हजार नौकरियां

Smart News Team, Last updated: 28/01/2021 02:25 PM IST
  • चमड़ा व्यापार को बढ़ावा देने के लिए 260 एकड़ में प्रस्तावित मेगा लेदर पार्क में 5850 करोड़ रुपये का निवेश आएगा. इस पार्क में इतने बड़े पैमाने पर निवेश से 50 हजार लोगों को नौकरियां मिलेंगी. 
कानपुर में 260 एकड़ में लेदर पार्क बनाने को मंजूरी मिल गई हैं. इससे नई नौकरियां भी मिलेंगी. (प्रतिकात्मक फोटो)

कानपुर. कानपुर में रोजगार के अवसरों और चमड़ा व्यापार को बढ़ावा देने के लिए 260 एकड़ में प्रस्तावित मेगा लेदर पार्क में 5850 करोड़ रुपये का निवेश आएगा. इस पार्क में इतने बड़े पैमाने पर निवेश से 50 हजार लोगों को नौकरियां मिलेंगी. मेगा लेदर कलस्टर प्रोजेक्ट के तहत 260 एकड़ में बनने वाले इस पार्क में 20 मिलियन लीटर प्रतिदिन (mld) की क्षमता का कामन एफ्ल्युएंट ट्रीटमेंट प्लांट (common effluent treatment plant) भी लगेगा. यह प्लांट पार्क की गंदगी गंगा नदी में जाने से रोकेगा. इस प्लांट में चमड़ा उद्योग से निकली गंदगी को साफ कर के बचे पानी को गंगा नदी में छोड़ा जायेगा.

डीपीआर स्वीकृति के लिए भारत सरकार को भेजी गई है. यह जानकारी सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के अपर मुख्य सचिव डा. नवनीत सहगल ने दी है. उन्होंने बताया है कि लेदर पार्क की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) भारत सरकार के उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग (डीपीआईआईटी) को भेज दी गई है. स्वीकृति मिलने के साथ ही मेगा लेदर पार्क के विकास का काम शुरू कराया जाएगा. भारत सरकार के वाणिज्य मंत्रालय से इस प्रोजेट के लिए सहमति ली जा चुकी है. लेदर पार्क के लिए रमईपुर गांव में भूमि अधिग्रहित की गई है.

बिल्लियों के साथ खेलने का है शौक तो हो सकते हैं इस खतरनाक बीमारी का शिकार

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के अपर मुख्य सचिव डा. नवनीत सहगल ने बताया है कि कानपुर के रमईपुर गांव में मेगा लेदर क्लस्टर की स्थापना के लिए भूमि अधिग्रहित की गई. यह देश का पहला लेदर पार्क होगा. इसकी स्थापना से कानपुर देश के दस बड़े लेदर मैन्युफैक्चरिंग राज्यों में अपने स्थान को और बेहतर करने में सफल होगा. कानपुर में मेगा लेदर क्लस्टर प्रोजेक्ट के तहत बनने वाले लेदर पार्क में 50 हजार लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा, जबकि डेढ़ लाख लोग अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार पाएंगे.

सहजन से बना छेना कंट्रोल रखेगा शुगर-बीपी, इम्युनिटी बढ़ाएगा स्ट्रॉबेरी रसगुल्ला

इस लेदर पार्क में डेढ़ सौ से अधिक टेनरी कार्य करेंगी. चमड़े से बने जूते, पर्स, जैकेट से लेकर अन्य विश्वस्तरीय उत्पाद इस पार्क में बनाकर उनका निर्यात किया जा सकेगा. पार्क सभी तरह की सुविधाओं से लैस होगा. इसमें लेदर उत्पादों के उत्पादन से लेकर उत्पादों को दिखाने की भी व्यवस्था होगी. लेदर पार्क में उत्पादों को खरीदने के लिए आने वाले दुनियाभर के कारोबारियों के ठहरने और खाने-पीने की व्यवस्था भी रहेगी. पार्क में कैंटीन और विश्राम गृह जैसी सुविधाएं भी विकसित की जाएंगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें