कानपुर: नहीं चले आधुनिक कोचों वाली मेमू ट्रेन, पैसेंजर्स ट्रेन से ही हज़ारों यात्रियों को करना पड़ा सफर

Smart News Team, Last updated: Tue, 17th Aug 2021, 12:58 PM IST
  • कानपुर सेंट्रल स्टेशन से फर्रुखाबाद के बीच 16 अगस्त से पैसेंजर्स ट्रेन का परिचालन शुरू हो गया. हालांकि इस रूट पर मेमू ट्रेन चलाई जानी थी. लेकिन तकनीकी कारणों से नहीं चल सकी. इसके जगह सामान्य कोच लगाकर स्पेशल पैसेंजर ट्रेन को रवाना किया गया.
कानपुर: नहीं चले आधुनिक कोचों वाली मेमू ट्रेन, पैसेंजर्स ट्रेन से ही हज़ारों यात्रियों को करना पड़ा सफर (फाइल फोटो)

कानपुर: कानपुर सेंट्रल स्टेशन से फर्रुखाबाद के बीच 16 अगस्त से पैसेंजर्स ट्रेन का परिचालन शुरू हो गया. हालांकि इस रूट पर मेमू ट्रेन चलाई जानी थी. लेकिन तकनीकी कारणों से नहीं चल सकी. इसके जगह नार्मल कोच की रैक लगाकर स्पेशल पैसेंजर ट्रेन को रवाना किया गया. जिसके वजह से कई पैसेंजर्स का नई ट्रेन में सफर करने का सपना अधूरा रह गया. रेलवे ऑफिसर के अनुसार तकनीकी खामिया के कारण मेमू ट्रेन का परिचालन नहीं हो पाया. अब कुछ दिनों तक इस रूट पर सामान्य पैसेंजर ट्रेन ही चलाई जाएगी. संभावना है कि जल्द ही नई कोच वाली मेमू का परिचालन शुरू हो जाएगा.

कोरोना महामारी के कारण डेढ़ साल से कुछ स्पेशल ट्रेन का ही संचालन किया जा रह है, धीरे धीरे परिस्थितियाँ सुधरने के साथ पैसेंजर ट्रेन चलाने की अनुमती भी दे दी गई है. इस रूट पर ट्रेन सेवा बहाल होने से फर्रुखाबाद से कानपुर की दूरी आधे समय में ही तय की जा सकेगी. इससे पहले कानपुर से कन्नौज के लिए महज 40 मिनट का सफल ट्रायल हो चुका है. घोषणा की गई थी मई माह में इस रूट पर मेमू दौड़ाने की तैयारी की जा रही है. 

Railway Recruitment 2021: RRC ने पश्चिम रेलवे में निकाली भर्ती, इतनी होगी सैलरी

हालांकि कोरोना महामारी को देखते हुए सोमवार से इस रूट पर परिचालन शुरू हो पाया. सोमवार को अनवरगंज स्टेशन पर दोपहर 1:20 बजे यात्री प्लेटफार्म पर नई मेमू का इंतजार कर रहे थे. तभी कानपुर सेंट्रल से चल कर दोपहर 1:21 बजे सामान्य कोच वाली ट्रेन आकर खड़ी हो गई. सामान्य कोच वाली ट्रेन देखकर यात्री कंफ्यूज हो गए. हालांकि यहीं ट्रेन कानपुर से फर्रुखाबाद के लिए चलाई जाने की जानकारी मिली. जिस बाद यात्री निराश हो गए. यात्रीओं का कहना था कि 16अगस्त से इस रूट पर नई मेमू ट्रेन का परिचालन होना था. अगर ऐसा होता तो यह जर्नी हमलोग के लिए यादगार हो जाती.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें