कानपुर: योगिता हत्याकांड में बेटे विवेक की गिरफ्तारी के बाद घर में कैद हुई मां

Smart News Team, Last updated: 21/08/2020 08:06 AM IST
  • कानपुर. सीओ के पद से रिटायर थे डॉ विवेक तिवारी के पिता विष्णु तिवारी 4 कारों से 1:30 बजे रात को पहुंची पुलिस ने विवेक के घर मारा छापा मां बेटी ने बिना दरवाजा खोलें पुलिस के सवालों का दिया जवाब कानपुर अपने स्थाई मकान में रहते थे उसके पिता, बेटा कभी कभार आता था घर
प्रतीकात्मक तस्वीर

कानपुर। एसएन मेडिकल कॉलेज आगरा से पीजी कर रही डॉक्टर योगिता गौतम की हत्या के मामले में डॉक्टर विवेक तिवारी की गिरफ्तारी के बाद ही कानपुर स्थित उनकी मां और बहन पुलिस के डर से घर में कैद हो गई. पुलिस की पूछताछ के डर से दोनों कानपुर स्थित अपने मकान में कैद है.

पड़ोसियों का कहना है कि पूरे दिन विवेक की मां और बेटे घर से बाहर नहीं निकले है. इस दौरान मीडिया वालों से मां और बेटी बचती हुई नजर आई. उन्होंने अपने आप को घर में कैद कर लिया. कई बार मीडिया कर्मियों ने उनसे मिलने की कोशिश की लेकिन वह किसी से नहीं मिली. पड़ोसियों ने बताया कि पिता की मौत के बाद विवेक कभी कभार ही घर आता था. डॉक्टर योगिता से उसकी काफी पुरानी जान-पहचान थी.

पड़ोसियों ने बताया कि डॉ. विवेक तिवारी के पिता विष्णु तिवारी पुलिस विभाग से 2 साल पहले सीओ के पद से रिटायर हुए थे. वह अपनी पत्नी आशा और बेटी नेहा के साथ किदवई नगर में रहते हैं. दो साल पहले रिटायर सीओ विष्णु तिवारी की हार्ट अटैक से मौत हो गई. तब से मकान में सिर्फ आशा तिवारी और उनकी बेटी अकेली रहती हैं. बेटा विवेक तिवारी बहुत ही कम घर आता है.

मोहल्ले वालों ने बताया कि बुधवार की रात करीब 1 बजे तीन चार कारों से आई पुलिस की टीम ने विष्णु तिवारी के घर छापा मारा. वह डॉक्टर विवेक तिवारी के बारे में पूछताछ कर रहे थे.

मां और बेटी ने दरवाजा खोले बगैर ही अंदर से पुलिस के सवालों का जवाब दिया. पुलिस ने घर के बाहर खड़ी कार को कब्जे में ले लिया था. जो डॉक्टर विवेक ने 2 साल पहले खरीदी थी.

करीब 2:30 बजे तक पुलिस ऐसे ही पूरे मोहल्ले में तांडव मचाती रही. मोहल्ले के सभी लोग अपने घर की छतों से नजारा देख रहे थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें