कानपुर: संगीतकार-गीतकार व गृहस्थ संत रमेेश मरोलिया का दिल का दौरा पड़ने से निधन

Smart News Team, Last updated: 26/08/2020 07:14 AM IST
  • कानपुर के संगीतकार-गीतकार व गृहस्थ संत रमेेश मरोलिया का दिल का दौरा पड़ने से निधन. वो एक प्रसिद्ध कारोबारी रहे. इसके अलावा उन्हें समाजसेवक के रूप में भी लोग जानते हैं. उनके निधन पर महानगर में शोक है. 
कानपुर: संगीतकार-गीतकार व गृहस्थ संत रमेेश मरोलिया का दिल का दौरा पड़ने से निधन

कानपुर. कानपुर के प्रसिद्ध कारोबारी रमेेश मरोलिया का मंगलवार को निधन हो गया. वो केवल कारोबारी ही नहीं थे. बल्कि रमेश मरोलिया प्रसिद्ध कारोबारी के साथ संगीतकार, गीतकार, कवि, राजनेता व गृहस्थ संत की पहचान भी रखते थे. बताया जा रहा है कि उनका निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ. वो एक समाजसेवक भी थे. उनके निधन से महानगर में शोक है.

बिरहानारोड निवासी संघ से जुड़े आलोक मेहरोत्रा ने बताया कि वह रमेश मरोलिया की तबियत सोमवार की रात को खराब हुई. तब रमेश अपने एक दोस्त के घर पर थे. रात में ही उनकी मौत हो गई. दोपहर बाद शव आवास पर लाया गया. रमेश मरोलिया के निधन पर सोशल मीडिया साइट, फेसबुक और ट्विटर पर देर रात तक लोगों ने शोक प्रकट किया.

कानपुर में देर रात बवाल, दो पक्षों में पथराव, पुलिस ने लाठियों से खदेड़ा

बताया जाता है कि वह बहुत ही सरल स्वभाव के थे. वह संस्कार भारती से भी जुड़े थे. उनकी शव यात्रा बिरहानारोड निवास से भगवतदास घाट गई. रमेश मरोलिया के पुत्र राजीव ने अंतिम संस्कार किया. अंतिम संस्कार में पूर्व विधायक सलिल विश्नोई, बालाजी मंदिर के महंत नंद कुमार आदि मौजूद रहे.

कानपुर पुलिस लाइन में बरामदा गिरने से सिपाही की मौत के बाद चार जर्जर बैरकें खाली

जानकारी के मुताबिक रमेश मरोलिया कई धार्मिक संस्थाओं से भी जुड़े थे. रमेश मरोलिया कानपुर के बिरहानारोड स्थित मरोलिया निवास के मालिक थे. वो राम मंदिर आदोलन से भी जुड़े रहे थे. यहां तक की उन्होंने राम मंदिर आंदोलन में गिरफ्तारी भी दी थी. वह कारोबारी के रूप में मर्चेंट चैम्बर ऑफ उत्तर प्रदेश से भी जुड़े रहे. रमेश मरोलिया जेके सिंघानिया परिवार के करीबी बताए जाते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें