कानपुर: प्राइवेट स्कूल फीस के खिलाफ लखनऊ जा रहे अभिभावक जाजमऊ पुल पर अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 24/08/2020 06:28 PM IST
  • कानपुर में प्राइवेट स्कूलों द्वारा बढ़ी हुई फीस के खिलाफ पैदल जा रहे अभिवावकों को कानपुर पुलिस ने जाजमऊ पुल से गिरफ्तार कर लिया.
प्राइवेट स्कूलों में बढ़ी हुई फिस हुई को लेकर लखनऊ जा रहे अभिभावक को पुलिस ने गिरफ्तार के दो घंटे बाद छोड़ा. 

कानपुर. कोरोना काल में बढ़ी हुई फीस को लेकर अभिवावकों का विरोध प्रदर्शन जारी है. आज अभिभावक संघ के सदस्यों ने स्कूलों में बढ़ी फीस को लेकर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के लिए पैदल निकले तो पुलिस ने जाजमऊ में रोक कर गिरफ्तार कर लिया.  दो घंटे बाद अभिभावकों को इस वादे के साथ छोड़ा गया कि वे लखनऊ नहीं जाएंगे.अभिभावकों ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को प्रार्थनापत्र दिए, जिसमें कहा गया है कि वे फीस देने में अक्षम हैं और स्कूल उनका प्रार्थनापत्र नहीं ले रहे हैं.

शिक्षक संघ के सदस्य राकेश मिश्रा ने कहा कि आज अखिल भारतीय पीड़ित अभिभावक महासंघ के बैनर तले हम लोग फीस माफी के मुद्दे पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लखनऊ में मिलने जा रहा हैं. उनसे मुलाकात करके अपील करेंगे कि वे इस मामले में हस्तक्षेप करें.

कानपुर: कूड़े में फटे बम की चपेट में मासूम, मकान की दीवार ढही

राकेश मिश्रा के बताया कि अभिभावकों ने जिले में पिछले तीन महीने से फीस माफी को लेकर विरोध प्रदर्शन किया. जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया. जिलाधिकारी ने बताया कि यह मामला शासन के स्तर पर सुना जाएगा. इसलिए हम लोग अब लखनऊ जाकर मुख्यमंत्री से इस संबंध में मुलाकात करेंगे.

 अभिभावकों के हाथों में तिरंगा और तख्तियां थीं जिसमें फीस माफी के स्लोगन लिखे थे. वे नारे लगा रहे थे - यह जो धाधागर्दी है, उसके पीछे वर्दी है, फीस गले की फांसी है, जनता भूखी-प्यासी है, नो स्कूल नो फीस जैसे जोशीले नारे लगाने लगे.

कानपुर: पत्नी की बेरहमी से पिटाई के बाद खुद थाने पहुंच गया हैवान पति

बढ़ी हुई फीस को लेकर परेशान अभिभावकों ने सोमवार को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने की योजना बनाई थी. अभिभावकों ने बढ़ी हुई फीस के खिलाफ पैदल लखनऊ के लिए रवाना हुए. जाजमऊ पुल के पास पहुंचे तो पुलिस ने उनको रोका. आगे न जाने के लिए कहा. जब अभिवावक संघ के सदस्यों ने आगे बढ़ने की कोशिश की तो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.  हालांकि, दो घंटे बाद पुलिस ने गिरफ्तार अभिभावकों को छोड़ दिया.

अभिभावकों ने कहा कि अगर सरकार तत्काल फीस माफी की घोषणा नहीं करती तो प्रधानमंत्री कार्यालय पर प्रदर्शन होगा. पेशेंट हेल्थ केयर सोसाइटी के महामंत्री माहेश्वरी बाबूलाल सारडा ने अभिभावकों की हितों की लड़ाई लडने के लिए हमेशा साथ देने का वादा किया. इस दौरान अखिल भारतीय पीड़ित अभिभावक महासंघ के नवीन अग्रवाल, प्रदीप त्रिपाठी, अभिषेक मिश्रा, नितिन मिश्रा, रवि कुमार वर्मा, सरफराज खान, जितेन गुप्ता पोपी, सौरभ त्रिपाठी, प्रमोद यादव, अभिजीत गुप्ता, लव गुप्ता, विवेक दुबे, रवि शुक्ला, अजीत खोटे, शमशाद आदि थे.

कोरोना काल में लागू लॉकडाउन के कारण अभिभावक आर्थिक तंगी की मार झेल रहे हैं. स्कूलों में बढ़ी हुई फीस अभिभावकों पर अतिरिक्त बोझ के समान है. इसलिए अभिभावकों का विरोध प्रदर्शन जारी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें