कानपुर: विकास दुबे वाले चौबेपुर थाने में क्राइम कंट्रोल के लिए पुलिस हवन पर बैठी

Smart News Team, Last updated: 01/09/2020 09:15 PM IST
  • बिकरू कांड के बाद चर्चा में आए चौबेपुर थाने में हवन और रुद्राभिषेक गया. क्षेत्र में अपराध को अंकुश लगाने के लिए पुलिस ने यह हवन करवाया है. गौरतलब है कि गैंगस्टर विकास दुबे की सहायता करने बालों में इस थाने के अधिकारियों का भी नाम आया था जिसके बाद पुलिस की बदनामी हुई थी.
चौबेपुर थाना परिसर के शिव मंदिर में हवन करते पुलिसकर्मी

कानपुर. विकास दुबे के मामले के बाद चौबेपुर थाना चर्चा में आ गया था. बिकरू कांड के कारण थाने के अधिकारियों की मिलीभगत के कारण पुलिस की काफी बदनामी हुई थी. अब यहां के पुलिसकर्मियों द्वारा थाने में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए हवन और रुद्राभिषेक करवाया है.

दरसअल, थाने के अंतर्गत आने वाला क्षेत्र अपराध मुक्त बने इसलिए चौबेपुर थाने की पुलिस द्वारा सोमवार को रुद्राभिषेक करवाया गया. इसके बाद पुलिस कर्मियों द्वारा मंगलवार को बुढ़वा मंगल के अवसर पर थाना परिसर किसी मंदिर में हवन किया गया. थाने के कर्मियों ने हवन में आहुति डालकर क्षेत्र की शांति के लिए मनोकामना की. हवन करीब 3 घंटे तक चला. इसके बाद लोगों में प्रसाद का वितरण किया गया.

विकास दुबे के गुर्गे जय की 37 करोड़ की 11 संपत्तियां कुर्क करने का नोटिस चस्पा

बिकरू गांव चौबेपुर थाना के अंतर्गत आता है. बिकरू गांव में विकास दुबे द्वारा गोलीबारी किये जाने से आठ पुलिसकर्मियों की जान गई थी और 6 अन्य घायल हो गए थे. इसके बाद इस घटना में गैंगस्टर विकास दुबे की सहायता करने वालों में थानाध्यक्ष विनय तिवारी और दारोगा के के शर्मा का नाम आया था. जिन्हें इस मामले में जेल भी जाना पड़ा. 

कानपुर: बुढ़वा मंगल पर कोरोना का साया, लोगों ने घरों में रहकर की पूजा-अर्चना

इसके साथ ही बिकरू कांड के बाद थाने में तैनात पुलिसकर्मियों को लाइन भेजकर नई तैनाती भी की गई. इसी दौरान थाने में कोरोना का संक्रमण भी फैल गया.इंस्पेक्टर सहित 12 पुलिसकर्मी कोरोनावायरस निकले. वर्तमान में थाने का प्रभार एसआई देवेंद्र सिंह के पास है.

अन्य खबरें