कानपुर: छेड़छाड़ मामले में पुलिस ने मृत महिला को बनाया गवाह, दर्ज किया बयान

Smart News Team, Last updated: 07/10/2020 11:41 AM IST
  • कानपुर पुलिस ने एक छेड़छाड़ मामले में साल भर पहले मरी हुई महिला का बयान गवाह के रूप में दर्ज कर लिया. पीड़िता ने मृत महिला के मृत्यु प्रमाणपत्र साक्ष्य अधिकारी को दिए और विवेचक पर आरोपियों को बचने के लिए गलत बयान दर्ज करने का आरोप भी लगया है. इस मामले कि जाँच एसपी साऊथ दीपक भूकर कर रहे है.
कानपुर: छेड़छाड़ मामले में पुलिस ने मृत महिला को बनाया गवाह, दर्ज किया बयान

कानपुर. कानपुर पुलिस ने एक छेड़छाड़ मामले में चार्टशीट दाखिल करने के लिए एक साल पहले मरी हुई महिला का बयान गवाह के रूप में दर्ज कर लिया. पीड़िता ने मृतिका के मृत्यु के प्रमाणपत्र सबूत के रूप में अधिकारी के पास जमा भी कराया है. जब यह मामला सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तब एसपी साऊथ मांमले की गंभीरता से जांच करने में जुटे. मामला कानपुर के नौबस्ता क्षेत्र का है. पीड़ित महिला ने बताया कि 17 मार्च को वह स्कूटी से अपनी बेटी को स्कूल से लेकर घर आ रही थी. इलाके के चार पांच युवकों ने छेड़छाड़ की और मारपीट कर कपडे भी फाड़ दिए थे. 

मोहल्ले कि महिलाओं ने उन युवकों से उसे बचाया था. डीआईजी के निर्देश के बाद नौबस्ता पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ छेड़छाड़ सहित अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज की थी. पीड़िता का आरोप है कि आरोपितों के खिलाफ जब कोर्ट में चार्टशीट दाखिल की गयी तब पुलिस ने उसमे से छेड़छाड़ कि धरा हटा दी थी.

लव, सेक्स और धोखा: जिस बॉयफ्रेंड के लिए पति को छोड़ा, उसने ही कर दी बेरहमी से हत्या

इसका कारण जानने के लिए वकील से चार्टशीट की कॉपी निकलवाई तो उसमें आरोपितों के पक्ष में पुलिस ने मोहल्ले की महिलाओं के बयान दिखाए थे. जिसमे से एक चाँदतारा नाम की महिला की जुलाई 2019 में ही मौत हो चुकी थी. पीड़िता ने विवेचक के ऊपर ये आरोप लगाया है कि उसने आरोपितों को बचाने के लिए गलत बयान दर्ज कराए है. पीड़िता ने मृत महिला के मृत्यु प्रमाण पत्र साक्ष्य अधिकारी के पास जमा कराया हैं. 

क्लैट पीजी परीक्षा 2020 में ऑल इंडिया टॉपर बनी कानपुर की बेटी कौमुदी उमराव

नौबस्ता इंस्पेक्टर ने बताया कि किसी ने विवेचक को षड्यंत्र के तहत फसाया है. इसकी जाँच एसपी साऊथ दीपक भूकर कर रहे हैं. एसपी दीपक का कहना है कि ऐसे मामलो में बयान दर्ज करते वक्त विवेचक को बयान दर्ज कराने वालो की पहचान का सत्यापन जरूर करनी चाहिए. अगर आरोपितों के साथ किसी भी तरह कि संलिप्त पाई जाती है तो उनके खिलाफ जरूर कार्यवाही कि जाएगी. इसकी जाँच की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें