कानपुर: डिपो कर्मी की हत्या करने के मामले में आरोपी सूदखोर की चलती थी दबंगई

Smart News Team, Last updated: 29/10/2020 10:45 AM IST
  • कानपुर के किदवई नगर के रोडवेज डिपो में रुपयों की लेनदेन को लेकर एक कर्मी की हत्या कर दी गई थी. आरोपी सूदखोर डिपो का ही कर्मचारी है. सूदखोर की दबंगई चलती थी.
कानपुर: डिपो कर्मी की हत्या करने के मामले में आरोपी सूदखोर की चलती थी दबंगई.

कानपुर. कानपुर के किदवई नगर के रोडवेज डिपो में बुधवार को रुपयों की लेनदेन को लेकर एक कर्मी की पीटकर हत्या कर दी गई. आरोप है कि डिपो के ही सूदखोर कर्मचारी ने ब्याज के लिए साथी कर्मचारी से मारपीट की. आरोपित कर्मचारी भी गंभीर रूप से घायल हो गया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

नौबस्ता का रहने वाला रामप्रकाश माथुर (60) रोडवेज बस में डिपो के पद पर तैनात थे. उनके छोटे बेटे पुष्पेन्द्र ने बताया कि बहन की शादी के लिए करीब 4 साल पहले पिता ने डिपो में कार्यरत सहायक प्रमोद कुमार दुबे से कुछ रुपये उधार लिए थे. कुछ दिन बाद पैसे वापस कर दिए थे.

RBI की रिपोर्ट का दावा- शराब ने संभाला कोरोना संकट में राज्यों का राजस्व

पुष्पेन्द्र ने बताया कि देर से पैसे वापस करने पर प्रमोद ब्याज मांग रहा था. बुधवार को करीब तीन बजे राम प्रकाश ड्यूटी पर गए थे. वहां प्रमोद ने उनसे फिर रुपये मांगे तो इस पर विवाद खड़ा हो गया. बेटे ने आरोप लगाया कि प्रमोद ने पिता की पीटकर हत्या कर दी.

कोरोना से लड़ने की पूरी तैयारी, बेड पर अल्ट्रासाउंड, इंफ्यूजन पंप से मिलेगी दवा

एसपी साउथ दीपक भूकर ने कहा कि किदवई नगर डिपो के दो कर्मचारियों के बीच में मारपीट हुई थी. दोनों की हालत गंभीर थी. पुलिस ने उन्हें हैलट अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया, जहां एक की मौत हो गई.

रामप्रकाश माथुर सालों से आरोपी प्रमोद कुमार दुबे उर्फ पीके से परेशान था. आरोपी प्रमोद कुमार ने कई अन्य सहायक कर्मचारियों को पैसे बाटे थे. ब्याज के पैसे को लेकर वह आए दिन दबंगई करता था. मृतक राम प्रकाश ने अनोहनी होने की आशंका अपने बेटों से जताई थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें