कानपुर स्कूल एसोसिएशन की धमकी- नहीं भरी बच्चे की फीस तो काट देंगे स्कूल से नाम

Smart News Team, Last updated: 15/09/2020 08:17 PM IST
केपीएसए के द्वारा यह स्पष्ट कर दिया गया है कि अभिभावकों द्वारा विद्यार्थियों की फीस जमा नहीं की गई तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है. अभिभावकों द्वारा उनकी सद्बुद्धि के लिए मंगलवार की रात हनुमान चालीसा का पाठ किया जाएगा.
केपीएससी फीस न जमा करने वाले विद्यार्थियों पर कार्रवाई कर सकता है.

कानपुर. मंगलवार को कानपुर प्राइवेट स्कूल्स एसोसिएशन(केपीएसए) ने यह स्पष्ट कर दिया है कि अगर अभिभावक उनके बच्चों की स्कूल फीस जमा नहीं करेंगे तो छात्र-छात्राओं के खिलाफ अनिवार्य रूप से कार्रवाई की जाएगी. स्कूल विद्यार्थियों का नाम भी काट सकती है. उन्होंने अभिभावकों को चेतावनी दी है कि वह भ्रम में ना रहे.

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश अभिभावक विचार मंच फीस कम की मांग पर 7 सितंबर से शास्त्री चौक पर सांकेतिक भूख हड़ताल पर बैठे थे. इसके बाद सोमवार को जिलाधिकारी ने भूख हड़ताल पर बैठे अभिभावक विचार मंच के सदस्यों के साथ अब बातचीत की. जिलाधिकारी ने अभिभावकों को आश्वस्त किया था कि वह आधी फीस माफी के लिए प्रशासन से बात करेंगे. किसी भी विद्यार्थी का नाम ऑनलाइन पढ़ाई या स्कूल रजिस्टर से नहीं काटा जाएगा.

मरने के बाद भी कम नहीं हुई विकास दुबे की दहशत, अब उसका भूत सोने नहीं दे रहा

वहीं दूसरी तरफ सीबीएससी, सीआईएससीई के संगठन और कानपुर प्राइवेट स्कूल्स एसोसिएशन के संरक्षक डॉ. नागेंद्र स्वरूप की ओर से एक बयान जारी किया गया है. डॉ. स्वरूप ने कहा कि स्कूल प्रबंधन अप्रैल से अपने टीचर्स को सैलरी दे रहे हैं. लेकिन अब समस्या विकट हो गई है. इस विपरीत परिस्थिति में कई स्कूलों ने तो काफी संख्या में शिक्षकों को निकाल दिया है. साथ ही शिक्षकों के सैलरी में भी कटौती की गई है. ऐसे में वे स्कूल फीस नहीं देने वाले अभिभावकों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मजबूर है. हालांकि डॉ स्वरूप ने यह भी कहा कि यदि प्रशासन भी इसकी क्षतिपूर्ति करने को तैयार है तो ऐसा नहीं किया जाएगा.

कानपुर में बदतमीज SHO ने औरत से कहा- ब्लाउज फाड़कर आओ फिर रेप केस बना दूंगा

आपको यह भी बता दें कि उत्तर प्रदेश अभिभावक विचार मंच के सदस्य मंगलवार की रात को केपीएसए की सद्बुद्धि के लिए हनुमान चालीसा का पाठ भी करेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें