कानपुर में टेली-मेडिसिन ओपीडी शुरू, घर बैठे डॉक्टर से परामर्श और दवा का पर्चा

Smart News Team, Last updated: 07/08/2020 11:29 PM IST
  • कानपुर में कोरोना संक्रमण की वजह से घर बैठे डॉक्टरी परामर्श के लिए टेली-मेडिसिन ओपीडी शुरू कर दी गई है और घर बैठे ही दवा का पर्चा भी मुहैया कराया जा रहा है.
ई-संजीवनी पर दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक डॉक्टरी परामर्श की सुविधा मिलेगी.

कानपुर. कोरोना की वजह से अस्पतालों में आम बीमारियों के मरीजों को हो रही दिक्कत को देखते हुए कानपुर में टेली-मेडिसिन की सेवा ई-संजीवनी ओपीडी शुरू हो गई है जिससे घर बैठे डॉक्टर से परामर्श और दवा का पुर्जा भी मिल सकता है. इसका एक मकसद अस्पताल में मरीजों की भीड़ को कंट्रोल करना भी है. ई-संजीवनी मोबाइल एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर आसानी से डॉक्टरी सलाह ले सकते हैं.

शहर के कम्युनिटी प्रोसेस प्रबंधक (डीसीपीएम) योगेंदर सिंह पाल ने बताया कि लोगों को घर बैठे ओपीडी सुविधा उपलब्ध कराने के लिए ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन सेवा शुरू की गई है. यदि किसी मरीज के पास एंड्राइड मोबाइल नहीं है तो ऐसे मरीजों को सीएचओ अपने मोबाइल से चिकित्सा तकनीकी विशेषज्ञ के जरिए उन्हें सलाह उपलब्ध कराने में मदद करेंगे.

कानपुर के केशवपुरम में दिखा लकड़बग्घा, लोगों में हड़कंप, वन विभाग का सर्च ऑपरेशन

जिन लोगों के पास स्मार्टफोन है वह ई-संजीवनी एप या वेबसाइट के जरिये रजिस्ट्रेशन करके ओपीडी सेवा का लाभ ले सकते हैं. ई-संजीवनी के तहत दिया जा रहा परामर्श नि:शुल्क है. उन्होंने बताया कि कानपुर में मंडल स्तर पर एक हब उर्सला अस्पताल में बनाया जाएगा जहां 4 डॉक्टर और ऑपरेटर की नियुक्ति की जाएगी. साल के अंत तक सीएचसी और पीएचसी भी टेलीमेडिसिन सेवा से लैस होंगे.

दोपहर 1 से 4 बजे तक लाभ ले सकते हैं ई-संजीवनी का

डीसीपीएम ने बताया दोपहर 1 से 4 बजे तक लोग चिकित्सकों से सलाह ले सकते हैं. इस सेवा के ज़रिये हृदय, किडनी, आंख, कान, गला, हड्डी आदि से सम्बंधित गंभीर बीमारियों से ग्रसित मरीज़ भी डॉक्टरी सलाह और उचित इलाज ले सकेंगे.

कानपुर: अफेयर के लिए डांटने पर लड़की ने बाप पर ही लगा दिया रेप का फर्जी आरोप

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें