भगवान को खुश करने के लिए महिला ने ली समाधि, पांच घंटे बाद पुलिस ने जिंदा निकाला बाहर

Smart News Team, Last updated: 11/02/2021 12:15 PM IST
 पुलिस ने समाधि लेने वाली महिला को पांच घंटे के अंदर ही समाधि से निकाल लिया. समाधि से निकाले जाने से नाराज महिला ने पुलिस अधिकारियों से कहा, उन्होंने ईश्वर की साधना को भंग किया है. इसकी सजा मिलेगी. भगवान आपको कभी माफ नहीं करेगा.
कानपुर में एक महिला ने भगवान शिव का सपना देखने पर अपने घर के बाहर समाधि ली.

कानपुर: कानपुर के सजेती थाना क्षेत्र में बुधवार को अंधविश्वास से घिरा मामला सामने आया है. क्षेत्र के मढ़ा गांव में भगवान शिव को खुश करने के लिए एक 52 वर्षीय महिला ने अपने घर के बाहर हाथ के बाहर समाधि ले ली. परिजनों के अनुसार महिला ने भगवान शिव को सपने में देखा था. महिला के समाधि लेने की सूचना से प्रशासन में हडकंप मच गया. भारी पुलिस फोर्स के साथ एसडीएम और सीओ मौके पर पहुंचे गए. पुलिस ने महिला को समाधि से बाहर निकालकर अस्पताल में भर्ती कराया. जांच के महिला को स्वस्थ बताया जा रहा है.

जानकारी के अनुसार, मढ़ा गांव के राम रामसजीवन की पत्नी पिछले पांच बर्षों गोमती शिव मंदिर में पूजा करती थी. धीरे-धीरे गांव में चर्चा होने लगी, कि गोमती को भगवान शिव के दर्शन होते है. ग्रामीणों के अनुसार उसके देखने के लिए दूर-दूर से लोग गांव आते है. महिला अपने आप को शिव का अवतार मानने लगी. मंगलवार को महिला के परिजनों ने ऐलान किया, कि दो दिन बाद महिला समधि लेगी. खबर सूनते ही गांव में लोगों का ताता लग गया.

बसंत पंचमी से शुरू होगी मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना, जानें कैसे लें इसका लाभ

बुधवार को महिला के घर के बाहर गड्ढा खोदा गया. समाधि लेने से पहले महिला ने पूजा की और लाल साड़ी और हाथ में त्रिशूल लेकर गड्ढे में बैठ गई. इस प्रक्रिया के बाद गांव में भजन कीर्तन होने लगे. मामले की सूचना मिलने के बाद एसडीएम और सीओ पुलिस फोर्स के साथ गांव पहुंच गए. समधि से बाहर निकालने पर पुलिस और गांव वालों के बीच बहस होने लगी. कुछ देर बाद पुलिस ने महिला को गड्ढे से निकाल कर अस्पताल में भर्ती कराया.

खुशखबरी! NHAI ने खत्म की फास्टैग में मिनिमम बैलेंस की अनिवार्यता

समाधि से निकालने पर गोमती ने कहा

समाधि से बाहर निकालने पर महिला ने कहा, पुलिस ने ईश्वर के काम में बाधा उत्पन्न की है. जिससे भगवान नाराज हो गए है. जिन्होंने भी उनकी तपस्या को भंग किया है ईश्वर उन्हें कभी माफ नहीं करेगा. भगवान सबको सजा देगा. पुलिस अधिकारियों ने महिलाओं को समझाने की पूरी कोशिश की, लेकिन वह थाने से चली गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें