न्यायिक आयोग का सवाल- कैसे पलटी कार, विकास दूबे पर सबसे पहले किसने चलाई गोली

Smart News Team, Last updated: Sun, 30th Aug 2020, 8:15 AM IST
विकास दुबे एनकाउंटर मामले में जांच कर रहा न्यायिक आयोग मुठभेड़ स्थल पहुंचा और जांच की कि मुठभेड़ को कैसे अंजाम दिया गया. साथ ही न्यायिक आयोग ने मुठभेड़ में शामिल रहे अधिकारियों से सवाल भी पूछे कि मुठभेड़ के दिन कार कैसे पलटी, कार में से सबसे पहले कौन निकला और विकास दूबे पर सबसे पहले किसने चलाई गोली?
न्यायिक आयोग का सवाल- कैसे पलटी कार, विकास दूबे पर सबसे पहले किसने चलाई गोली

कानपुर. न्यायिक आयोग विकास दुबे एनकाउंटर मामले की जांच में जुट गया है. इस मामले की जांच के लिए न्यायिक आयोग मुठभेड़ स्थल पहुंचा. पिछले दो दिन से आयोग मुठभेड़ स्थल की जांच कर रहा है. वहीं न्यायिक आयोग की टीम के साथ मौजूद एनकाउंटर में शामिल रहे आईजी से भी पूछताछ की जा रही है. शनिवार को न्यायिक आयोग सचेंडी पहुंचा जहां विकास दुबे का एनकाउंटर हुआ था. उन्होंने एनकाउंटर में शामिल रहे पुलिस और एसटीएफ के अफसरों-सिपाहियों से कई सवाल पूछे.

न्यायिक आयोग की टीम रिटायर जस्टिस बीएस चौहान के नेतृत्व में है जिसमें हाईकोर्ट के रिटायर जस्टिस एसके अग्रवाल और पूर्व डीजीपी एके गुप्ता भी शामिल हैं. उन्होंने अधिकारियों से सवाल किया कि बारिश हो रही थी और हाईवे तीन गाड़ियां एक साथ ओवरटेक करने लायक चौड़ा है तो गाड़ी किनारे कैसे आकर डिवाइडर से टकरा गई? जवाब में एनकाउंटर टीम ने कहा कि बारिश के कारण दिखाई नहीं दिया इस कारण गाड़ी किनारे आ गई आगे वाला पहिया अचानक डिवाइडर पर चढ़ा और गाड़ी पलट गई.

बिकरू कांडः न्यायिक आयोग ने की मुठभेड़ स्थल की जांच, IG से पूछा कैसे की घेराबंदी

आयोग ने पूछा विकास कहां बैठा था? तो बताया गया कि उसे बीच में बैठाया था. आयोग ने पूछा गाड़ी पलटने पर सबसे पहले कौन बाहर निकला? एनकाउंटर कैसे हुआ? इसको जानने के लिए आयोग ने मुठभेड़ के समय मौजूद रहे सभी सिपाहियों को उसी तरह खड़ा किया जिस तरह एनकाउंटर के समय खड़े थे. इसके बाद आयोग ने पूछा कि किसने कितनी गोली चलाई और विकास को उसमें से कितनी गोली लगी?

कानपुर : विकास के साथी जय को बचाने की कोशिश करने वाले तीन दरोगा सस्पेंड

एसटीएफ के दरोगा से भी पूछा गया कि विकास ने आपकी जो पिस्टल छीनी थी उसमें कितनी गोलियां थीं? दरोगा ने जवाब में बताया दस गोलियां थीं. उनसे पूछा एनकाउंटर के बाद उसमें कितनी गोली मिलीं तो जवाब में बताया गया कि एक ही गोली थी. उन्होंने बताया कि विकास ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी. बता दें कि शुक्रवार को भी न्यायिक आयोग ने इस मामले के अन्य एनकाउंटर स्थल की भी जांच की थी. बिकरू कांड के बाद विकास के जिस गुर्गे का एनकाउंटर जहां हुआ उस स्थल की जांच की गई. इसमें शुरुआत चौबेपुर स्थित कांशीराम निवादा से हुई और पनकी और सचेंडी में जांच की गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें